प्लास्टिक प्रतिबंध के छह साल सिर्फ दिखावटी आदेशों में, बाजारों में अब भी धड़ल्ले से बिक्री-उपयोग

- सिंगल यूज्ड प्लास्टिक पर भी नहीं लग पाया प्रतिबंध, विकल्पों का उपयोग नहीं हो रहा

भोपाल। पॉलीथिन कैरी बेग के साथ सिंगल यूज्ड प्लास्टिक पर प्रतिबंध नहीं लग पाया है, जबकि नगर निगम बीते छह साल से इसके लिए कागजी दिशा निर्देश और आदेश जारी कर रहा है।


बीते साल स्वच्छता सर्वेक्षण के दौरान सिंगल यूज्ड प्लास्टिक प्रतिबंध के आदेश के साथ ही लोगों को इनके विकल्प के तौर पर बर्तन सेंटर और अन्य कवायद की थी, लेकिन इसका भी कोई लाभ नहीं मिला। अब भी सिंगल यूज्ड प्लास्टिक तो दूर अमानक पॉलीथिन कैरी बेग तक आसानी से उपयोग में लाए जा रहे हैं। कुछ समय पहले तक प्रशासनिक सख्ती और कार्रवाई के बीच दुकानदारों ने इनके विकल्पों का उपयोग शुरू किया, लेकिन जैसे ही सख्ती बंद हुई पॉलीथिन कैरी बेग का उपयोग शुरू हो गया।

निगम के अफसर पॉलीथिन के खिलाफ कार्रवाई लगातार जारी रहने की बात कह रहे हैं, लेकिन बाजार में ऐसा कुछ नजर नहीं आता। दुकानदार खुलकर न सिर्फ प्रतिबंधित पॉलिथीन में सामान रखकर दे रहे है, बल्कि पॉलिथीन के खुदरा व्यापारी खुद मार्केट में इसे बेचते घूम रहे हैं। गौरतलब है कि प्लास्टिक प्रबंधन नियम-2011 लागू करने के लिए एनजीटी ने जनवरी 2014 में निर्देश दिए थे। पर्यावरण अधिनियम-1986 की धारा 15 व 16 की उप धारा 15 (1), मप्र जैव अनाश्य अपशिष्ठ अधिनियम-2004 की धारा 9(1), 9(2), 9(3,), 9(4) एवं 9(5) तथा अपशिष्ट प्लास्टिक (प्रबंधन व प्रहस्तन) नियम-2011 को लागू करने को कहा है। इस मामले में कार्रवाई जिला प्रशासन, प्रदूषण बोर्ड व नगर निगम को संयुक्त रूप से करना है।

हाल में प्रधानमंत्री तक ने टोका
हाल में प्रधानमंत्री द्वारा फुटकर विक्रय करने वालों को मदद के ऑनलाइन कार्यक्रम में ऑनलाइन वीडियो कांफ्रेंसिंग से चर्चा के दौरान एक फुटकर विक्रेता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्लास्टिक की बोतल की बजाय मिट्टी के मटके के उपयोग की सलाह दी थी। इसी तरह हाल में एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भी प्लास्टिक की बोतल की बजाय अन्य विकल्पों का उपयोग करने का कहा था।

निगम बंद कर चुका सिंगल यूज्ड प्लास्टिक, लेकिन उपयोग जारी
नगर निगम बकायदा आदेश जारी करके सिंगल यूज्ड प्लास्टिक का अपने यहां प्रतिबंध लगा चुका है। बीते साल तक इसका पालन किया गया, लेकिन अब फिर से इसका उल्लंघन शुरू हो गया है। ये आदेश सभी सरकारी विभागों को जारी करने थे और अपने कार्यक्रमों में इसका पालन कराना था, लेकिन सरकारी कार्यक्रमों में प्लास्टिक की बोतल समेत अन्य प्लास्टिक का उपयोग नजर आ रहा है।

कोट्स
प्लास्टिक प्रतिबंध नियमों के तहत हमारी टीम काम कर रही है। रोजाना ही स्पॉट फाइन व जब्ती भी की जा रही है। इसे ओर बढ़ाकर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाया जाएगा।
- वीकेएस चौधरी, निगम आयुक्त

देवेंद्र शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned