ट्रांसफर चाहने वाले असिस्टेंड प्रोफेसर्स को झटका, दो साल का प्रोबेशन पीरियड पूरा करने के बाद ही होगा विचार

उच्च शिक्षा मंत्री ने तबादला नीति का हवाला देते हुए दिए निर्देश

भोपाल। तबादला चाहने वाले नई भर्ती वाले असिस्टेंड प्रोफेसर्स, लेक्चरर को सरकार ने झटका दिया है। सरकार ने स्पष्ट किया है कि इनके बारे में तभी विचार होगा जब ये दो साल का प्रोबेशन पीरियड पूरा कर लेंगे। इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने तबादला नीति का हवाला देते हुए कहा है कि सभी विभागों के लिए तबादला नीति में स्पष्ट उल्लेख है कि प्रोबेशन पीरियड के बाद ही तबादला किया जाए। मालूम हो प्रोबेशन पीरियड दो साल का होता है। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा ऐसे में असिस्टेंड लेक्चरर्स और असिस्टेंड प्रोफेसर्स को प्रोबेशन पीरियड पूरा करना होगा। इसके बाद भी उनके तबादला आवेदन पर विचार होगा। विभाग की सहानुभूति उनके साथ है। मालूम हो वर्ष 2019 में बड़ी संख्या में असिस्टेंड लेक्चरर्स की भर्ती हुई थी। इनमें स्पोर्टस ऑफीसर, लायब्रेरियन भी शामिल रहे। इन सभी का प्रोबेशन पीरियड दिसम्बर 2021 में पूरा होगा। इसके बाद ही इनके तबादला हो सकेंगे। नई भर्ती वाले कई असिस्टेंड प्रोफेसर्स और लेक्चरर ऐसे हैं जिन्होंने मनचाहे स्थानों पर तबादला पाने के लिए विभाग में आवेदन किया है। वे उम्मीद लगाए बैठे हैं कि उनका तबादला होगा। लेकिन उच्च शिक्षा मंत्री के इस स्पष्टीकरण से उन्हें दिसम्बर तक इंतजार करना होगा।

दीपेश अवस्थी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned