चुनाव नतीजों से पहले NIA कोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा को दिया बड़ा झटका

चुनाव नतीजों से पहले NIA कोर्ट ने साध्वी प्रज्ञा को दिया बड़ा झटका

Pawan Tiwari | Publish: May, 17 2019 03:06:53 PM (IST) | Updated: May, 17 2019 03:06:54 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

एनआईए कोर्ट ने मालेगांव ब्लास्ट के आरोपियों को सुनवाई के दौरान कोर्ट में सप्ताह में एक दिन उपस्थित रहने को कहा

भोपाल. बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह की मुश्किलें बढ़ गई हैं। विवादित बयानों की वजह से चर्चा में रहने वालीं साध्वी से पार्टी ने भी किनारा कर लिया है। वहीं, साध्वी की तबियत भी खराब है। ऐसे में मालेगांव ब्लास्ट मामले में उन्हें एनआईए कोर्ट से बड़ा झटका लगा है।

 

साध्वी प्रज्ञा 2008 में हुए मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी हैं। फिलहाल प्रज्ञा जमानत पर चल रही हैं। वहीं, सुनवाई के दौरान कोर्ट में आरोपियों की गैरमौजूदगी को लेकर एनआईए कोर्ट ने सख्त नाराजगी जाहिर की है। कोर्ट ने सभी आरोपियों को सुनवाई के दौरान सप्ताह में एक बार कोर्ट रूम में हाजिरी लगाने का निर्देश दिया है। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित समेत कई लोग आरोपी हैं।

 

इस मामले में अब अगली सुनवाई 20 मई को होनी है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि इस दिन कोर्ट में साध्वी प्रज्ञा को उपस्थिति दर्ज करवानी होगी। वहीं, 23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने वाले हैं।

 

साध्वी की उम्मीदवारी घोषित होने का बाद ही मालेगांव ब्लास्ट के एक पीड़ित ने उन्हें चुनाव लड़ने से रोकने के लिए एनआईए कोर्ट में याचिका दायर की थी। लेकिन कोर्ट ने याचिका का यह कहते हुए खारिज कर दिया था कि यह उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं है। इस पर फैसला चुनाव आयोग ही ले सकती है।

 

गौरतलब है कि साध्वी ने मुंबई हमले के दौरान शहीद हुए आईपीएस हेमंत करकरे को लेकर भी विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि उनकी मौत श्राप की वजह से हुई है। बाद में हालांकि उन्होंने माफी मांग ली थी। अभी नाथूराम गोडसे को देशभक्त बता वो चर्चा में हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned