पैर से झटका मारकर दो सेकंड में ही तोड़ देते थे हैंडिल लॉक

पैर से झटका मारकर दो सेकंड में ही तोड़ देते थे हैंडिल लॉक

Krishna singh | Publish: Sep, 09 2018 08:39:42 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

वाहन चोर गिरोह से 60 स्कूटर जब्त, आरटीओ एजेंट समेत 8 गिरफ्तार

भोपाल. क्राइम ब्रांच ने वाहन चोर गिरोह का पर्दाफाश कर चोरी के 60 स्कूटर (48 एक्टिवा, 10 एक्सेस, 2 मेस्ट्रो) जब्त किए हैं। पकड़े गए आठ आरोपियों में तीन शातिर वाहन चोर हैं। गिरोह में शामिल आरटीओ एजेंट, फर्जी रजिस्ट्रेशन कार्ड-चेसिस नंबर तैयार करने और खरीदारों को भी पकड़ा है। 60 गाडिय़ों में से बदमाशों ने 10 गिरवी, 24 बिक्री, 26 खुद के पास रखी थी।

पुलिस ने दावा किया कि 24 गाडिय़ों के फर्जी रजिस्ट्रेशन तैयार कर गिरोह ने बेच दिया था। हलालपुरा बस स्टैण्ड के पास 3 अप्रैल 2018 को पैर से झटका मार एक्टिवा का लॉक तोड़ते हुए रेत सप्लायर कैद हुआ था। बरामद वाहनों की कीमत 40 लाख रुपए पुलिस ने बताई है। डीआइजी धर्मेन्द्र चौधरी ने बताया कि स्कूटर चोर की पहचान मंगलवारा निवासी रेत सप्लायर राशिद खान(362) के रूप में हुई है। उसने बताया कि वह सुनील धौलपुरिया, असलम खान के साथ मिलकर चोरी की वारदातों को अंजाम देता है।

 

एक्टिवा का लॉक सबसे कमजोर, इसलिए पहली पसंद
राशिद का कहना कि एक्टिवा का सेंटर लॉक सबसे कमजोर होता है। पैर से झटका मारने पर आसानी से टूट जाता है। कोई आवाज भी नहीं आती। ऐसे में उसकी सबसे पसंद एक्टिवा थी। सेंटर लॉक टूटने के बाद स्विच की वायरिंग निकाल वाहन को स्टार्ट कर लेता था। राशिद ने 2015 में पहली स्कूटर चोरी की थी।

 

3 साल से गोरखधंधा, 10-20 हजार में बेचा
राशिद ने बताया कि वह पिछले तीन साल से वाहन चोरी कर रहा था। अधिकतर वाहन गांव-देहात में 10-20 हजार रुपए में ठिकाने लगाए हैं। गिरोह गिरवी नामा देकर गाड़ी की गारंटी लेता था।

 

आरटीओ दलाल बनाता था रजिस्ट्रेशन कार्ड
राशिद ने नंबर एवं रजिस्ट्रेशन कार्ड फर्जी तैयार करवाने के लिए रामनगर कॉलोनी निवासी कम्प्यूटर फोटो शॉप एक्सपर्ट समीर उर्फ वसीम, संजय नगर निवासी आरटीओ दलाल मोंटी उर्फ संदेश को शामिल किया। मोंटी आरटीओ दफ्तर से बने कार्डों के फोटो खींचकर आता था। समीर फोटो शॉप सॉफ्टवेयर के जरिए एडिट कर नया कार्ड तैयार कर देता था।

 

 

कूक्कू इंजन-चेसिस नंबर घिस नया लगाता था
गिरोह गाड़ी बेचने या गिरवी रखने पर ग्राहक को गाड़ी फायनेंस की बताता था। बताता था कि इसे मैंने बैंक से खरीदा है। शारदा नगर निवासी आरोपी सुरेंद्र अहिरवार उर्फ कुक्कू भी गिरोह में शामिल था, जो गाडिय़ों के इंजन और चेसिस नंबर को घिसकर चेसिस नंबर की प्लेट नई तैयार कर फिट कर देता था। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने अब्दुल समद (35) निवासी विदिशा और गुलवेज खान (26) निवासी पुतली घर शाहजहानांबाद खरीदार को गिरफ्तार किया है।

गिरोह के सदस्यों को लॉक तोडऩे की दी ट्रेनिंग
राशिद ने पुलिस को बताया कि सुनील और इरशाद को अपने गिरोह में शामिल किया। दोनों को लॉक तोडऩे की ट्रेनिंग दी। दक्ष होने के बाद तीनों चोरी की वारदातों को अंजाम देने लगे।

Ad Block is Banned