script आंतरिक असंतोष, फिर भी बीजद को बाजी मारने की उम्मीद | Stir in Odisha regarding Lok Sabha and Assembly elections | Patrika News

आंतरिक असंतोष, फिर भी बीजद को बाजी मारने की उम्मीद

locationभुवनेश्वरPublished: Dec 24, 2023 05:07:10 pm

Submitted by:

Rabindra Rai

अगले वर्ष निर्धारित आम चुनावों के साथ-साथ विधानसभा चुनाव को लेकर ओडिशा में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। पनप रहे आंतरिक असंतोष के बावजूद सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) सामाजिक कल्याण योजनाओं के सहारे चुनावों में आसानी से जीत हासिल करने की फिर उम्मीद कर रहा है। बीजद के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री समीर रंजन दास ने कहा कि बीजद साल भर लोगों की सेवा में लगी रहती है।

आंतरिक असंतोष, फिर भी बीजद को बाजी मारने की उम्मीद
आंतरिक असंतोष, फिर भी बीजद को बाजी मारने की उम्मीद
लोकसभा तथा विधानसभा चुनाव को लेकर ओडिशा में हलचल
अगले वर्ष निर्धारित आम चुनावों के साथ-साथ विधानसभा चुनाव को लेकर ओडिशा में राजनीतिक हलचल तेज हो गई है। पनप रहे आंतरिक असंतोष के बावजूद सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) सामाजिक कल्याण योजनाओं के सहारे चुनावों में आसानी से जीत हासिल करने की फिर उम्मीद कर रहा है। बीजद के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री समीर रंजन दास ने कहा कि बीजद साल भर लोगों की सेवा में लगी रहती है। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के नेतृत्व में पार्टी ने 2019 के चुनावों के लिए घोषणापत्र में की गई प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिए समर्पित रूप से काम किया है। हमारी पार्टी किसी भी समय चुनाव का सामना करने के लिए तैयार है। हम इस बार भी जीतने के लिए आश्वस्त हैं। दास ने कहा कि पार्टी ने 2019 में सीटों की संख्या 112 से बढ़ाकर 2024 में 130 करने का लक्ष्य रखा है।
--
अन्य बड़ी परियोजनाओं की भी घोषणा संभव
राज्य सरकार 2024 के आम चुनावों से पहले सिंचाई परियोजनाओं जैसी कई अन्य बड़ी परियोजनाओं की भी घोषणा कर सकती है। अमा ओडिशा नवीन ओडिशा, एलएसीसीएमआई और नुआ-ओ आदि जैसी कई जन-उन्मुख योजनाएं शुरू करके बीजद पार्टी चुनावी मोड में भी आ गई है। अमा ओडिशा नवीन ओडिशा योजना का उद्देश्य ग्रामीण डिजिटल बुनियादी ढांचे को बढ़ाना और ग्रामीण ओडिशा में सांस्कृतिक विरासत स्थलों और मंदिरों का संरक्षण करना है। इसी तरह, पार्टी को सस्ती परिवहन सुविधाएं प्रदान करके अपने ग्रामीण गढ़ को और मजबूत करने की उम्मीद है।
--
पारंपरिक महिला वोट बैंक सत्तारूढ़ दल के साथ
पार्टी को बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना, श्रीमंदिर परिक्रमा परियोजना, राज्य भर में प्रमुख मंदिरों और विरासत स्थलों के नवीनीकरण जैसे अपने प्रमुख कार्यक्रमों की सफलता से काफी फायदा होने की उम्मीद है। पिछले साल हुए राज्य शहरी स्थानीय निकायों और पंचायत चुनावों ने साबित कर दिया कि पारंपरिक महिला वोट बैंक भी सत्तारूढ़ दल के साथ बरकरार है।
--
पांडियन ले सकते हैं सीएम पटनायक की जगह
विपक्षी भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस गैर-ओडिया नेतृत्व, आदिवासी भूमि अधिकार आदि जैसे मुद्दों को उठाकर सत्तारूढ़ दल को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि पूर्व आईएएस अधिकारी वी. कार्तिकेयन पांडियन सीएम पटनायक की जगह ले सकते हैं। राजनीतिक विश्लेषक और अनुभवी पत्रकार रवी दास ने कहा कि बीजद की असाधारण चुनावी सफलता का एक सबसे बड़ा कारण मिशन शक्ति विभाग के तत्वावधान में महिला स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से महिला मतदाताओं के बीच इसका मजबूत समर्थन आधार है। राजनीतिक विश्लेषक कई कमियां भी बता रहे हैं, जो आम चुनाव में सत्तारूढ़ बीजद के लिए परेशानी खड़ी कर सकती हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो