लाल आतंक का साथ छोड़ पहना था वर्दी, गुस्साए नक्सलियों ने डीआरजी जवान को घेरकर मार डाला

- 2014 में किया था सरेंडर, बीजापुर में आरक्षक के पद पर था
- भाई को सरेंडर करवाने गया था डीआरजी जवान नक्सलियों ने कर दी हत्या

By: Ashish Gupta

Published: 30 Jan 2021, 10:49 AM IST

बीजापुर. डीआरजी में पदस्थ सोमडू उर्फ मल्लेश की नक्सलियों ने गुरुवार को उसके गृहग्राम कोतरापाल में हत्या कर दी थी। अब इस हत्याकांड में शहीद जवान की पत्नी ज्योति और ग्रामीणों से पुलिस को जो जानकारी मिली है उसके अनुसार मल्लेश के छोटे भाई ने उसे कोतरापाल बुलाया था। मल्लेश का भाई जो कि मीलिशिया कमांडर है, उसने कहा था कि वह भी सरेंडर करना चाहता है और वह गृहग्राम आकर उसे अपने साथ ले जाए। गौरतलब है कि शहीद जवान मल्लेश ने 2014 में मुख्यधारा में शामिल हुआ था। आत्मसमर्पण के बाद वह बीजापुर डीआरजी में बतौर आरक्षक के पद पर पदस्थ था।

जगदलपुर में CRPF जवानों के बीच खूनी संघर्ष, जवान ने की साथियों पर ताबड़तोड़ फॉयरिंग, एक की मौत

वीडियो कॉल कर बताया कि वह घिर चुका है
मल्लेश की पत्नी ज्योति ने बीजापुर पुलिस को जो बयान दिया है उसके अनुसार गुरुवार सुबह 10 बजे वह यह कहते हुए पुलिस लाइन स्थित घर से निकला था कि वह कोतरापाल जा रहा है और देर शाम तक लौटेगा लेकिन सुबह साढ़े ग्यारह बजे उसने ज्योति को वीडियो कॉल किया और डरे सहमे लहजे में कहा कि वह घिर चुका है और उसके बाद उसका फोन कट हो गया। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मल्लेश के छोटे भाई ने एक अन्य मिलिशिया कमांडर मंगेश के हाथों उसे पकड़वाया। बाद में नक्सलियों ने उसकी हत्या कर दी।

कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर पर ब्रेक, प्रदेश में 7 दिन से लगातार मरीजों की संख्या 500 से कम

पुलिस के पहुंचने से पहले ही अंतिम संस्कार
हत्या के बाद सबूत मिटाने के लिए परिजनों पर दबाव डालकर नक्सलियों ने गुरुवार की शाम को ही जबरन उसका अंतिम संस्कार भी करवा दिया। खबर की पुष्टि करने पुलिस जब गांव पहुंची तो उन्हें वहां अंतिम संस्कार के साक्ष्य ही मिले। घटनास्थल का मुआयना करने के बाद पुलिस शहीद के परिजनों को लेकर जांगला थाना पहुंची, जहां परिजनों के माध्यम से घटना की जानकारी जुटाई जा रही है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned