बीकानेर - सिर पर पानी ले जाकर बुझाती हैं पशु-पक्षियों की प्यास

बीकानेर - सिर पर पानी ले जाकर बुझाती हैं पशु-पक्षियों की प्यास

Atul Acharya | Publish: Jun, 05 2019 10:21:57 AM (IST) Bikaner, Bikaner, Rajasthan, India

गंगाशहर की गोचर भूमि के जीवों के लिए महिलाएं ले जाती हैं पानी

भावना सोलंकी

गंगाशहर. करीब पचास डिग्री तापमान में गला तर करने के लिए व्याकुल पशु-पक्षियों के लिए
तपती दुपहरी में सैकड़ों महिलाएं सिर पर पानी ढोती दिखें तो इनसे बड़ी पर्यावरण संरक्षक कहां दिखेंगी।बीकानेर के उपनगरीय गंगाशहर से सटी ११ हजार बीघा में फैली गोचर भूमि में हजारों जीव-जंतुओं के लिए महिलाओं का एेसा समर्पण शायद ही कहीं देखने को मिले। सालों से चली आ रही परम्परा के तहत सास से बहू और मां से बेटी तक इस परम्परा को आगे बढ़ा रही हैं।

 

 

गंगाशहर, भीनासर सहित आस-पास के क्षेत्र में रहने वाले परिवारों की ये महिलाएं रोजाना शाम चार बजे से समूहों में घरों से पानी से भरी मटकी सिर पर रखकर गोचर भूमि की ओर चल देती हैं। जंगल में कई किलोमीटर अंदर जाकर वहां पशुओं के लिए बनी खेळियों और पक्षियों के लिए रखे पाळसियों में पानी डालती है। प्रचार से दूर पीढिय़ों से चली आ रही इस परंपरा का निर्वाह कर रही है। लंबे चौड़े रेतीले भू-भाग में फैले इस जंगल में हजारों जीव-जंतुओं और पशु-पक्षियों के लिए गर्मी में पीने के पानी की कोई समुचित व्यवस्था नहीं है।

 

 

संस्कारों का निर्माण
बुजुर्ग शांति और भंवरी ने बताया कि यह परंपरा परिवार में पीढिय़ों से चली आ रही है। अब यह संस्कार बहू-बेटियां नई पीढ़ी को भी दे रही हैं। महिलाएं पशु-पक्षियों के लिए पानी पहुंचाती हैं, ताकि कोई जीव प्यास से न मरे। महिलाएं वापसी में पेड़ों की छांव में बैठकर कहानी, कथा, हरजस एवं बातपोशी की पुरानी परंपरा को आगे बढ़ाती हैं। परमेश्वरी, मंजू, शोभा, कमला, सीता, वीना, विजयलक्ष्मी, पेमी आदि ने बताया कि पर्यावरण दिवस तो वर्ष में एक दिन मनाया जाता है, लेकिन हम तो वैशाख शुरू होते ही गोचर में पानी पहुंचाने का काम शुरू कर देती हैं। मंजू सोलंकी ने बताया कि शादी के बाद ससुराल में दादीसास, सास को ऐसा करते देखा और मैंने भी शुरू कर दिया।हमारे साथ छोटे बच्चे भी बोतलों में पानी भरकर लाते हैं और पाळसियों में डालते हैं।

 

 

 

बुजुर्ग महिलाएं करती उत्साहवद्र्धन
आबादी क्षेत्र गोचर से सटा होने से क्षेत्रवासियों का जीव-जंतुओं से नजदीक का नाता है। दर्जनों महिलाओं के दिन की शुरुआत पशु-पक्षियों की प्यास बुझाने के लिए गोचर में पानी पहुंचाने से होती है। सुबह और शाम ढलने पर महिलाओं के समूह सिर पर पानी की मटकियों से गोचर में बनी खेळियों में पानी डालती है। उम्रदराज महिलाएं मटकी सिर पर रखकर ज्यादा आगे नहीं जा पाती तो वे आगे जाने वाली महिलाओं का उत्साहवद्र्धन करती हैं। उनके लौटकर आने तक वहीं मंडली बनाकर बैठ जाती हैं और पर्यावरण संरक्षण के पारंपरिक गीत गाती हैं।

 

 

 

गीतों से पर्यावरण संरक्षण का संकल्प
पानी डालने के बाद वापसी में महिलाएं समूह बनाकर गीत गाती हैं, जिसमें पर्यावरण संरक्षण और पशु-पक्षियों के प्रति उनका स्नेह झलकता है। 'भाग बड़ो घर आई म्हारी तुलछां, आंगणिये में तुलछा, मंदिर में तुलछांÓ, 'म्हारो अगलो जन्म सुधारो, पहाड़ां रा बद्रीनाथ, पहाड़ चढऩता म्हारा गोडा दुखे लकड़ ले लो साथÓ, Óसोच रही मन म, समझ रही मन म थारो म्हारो न्याव होवे ला सत्संग मंÓ आदि गीत गाकर महिलाएं भगवान को रिझाने का भी प्रयास करती हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned