मांगों को लेकर रेलवे कर्मियों ने भरी हुंकार, जमकर की नारेबाजी

ऑल इंडिया रेल मेन्स फैडरेशन के आह्वान पर यूनियन सदस्यों ने मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय व वर्कशॉप के आगे प्रदर्शन कर रोष जताया।

By: dinesh swami

Published: 02 Jan 2018, 11:41 AM IST

बीकानेर . सातवें वेतनमान की विसंगतियों को दूर करने, रेलवे में ठेका प्रथा बंद करने सहित विभिन्न मांगों को लेकर सोमवार को ऑल इंडिया रेल मेन्स फैडरेशन के आह्वान पर यूनियन सदस्यों ने मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय व वर्कशॉप के आगे प्रदर्शन कर रोष जताया।

 

नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के मंडल कार्यकारी अध्यक्ष अनिल व्यास के नेतृत्व में यूनियन के सदस्यों ने रेल मंडल प्रबंधक कार्यालय के आगे प्रदर्शन किया। कर्मचारियों ने सरकार की नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। व्यास ने कहा कि मजदूरों की जायज मांगों को लेकर संगठन संघर्षरत है, जबकि सरकार हठधर्मिता पर अडिग है।

 

वक्ताओं ने कहा कि नई पेंशन नीति को समाप्त कर सभी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना से जोड़ा जाए। सातवें वेतनमान की विसंगतियों को दूर किया जाए, रोजमर्रा के कार्य ठेके पर देना बंद किया जाए। प्रदर्शन में शशिकांत, ब्रजेश ओझा, सोहनलाल गुर्जर, देवेन्द्र गहलोत, मनोज के बिस्सा, लालचंद आदि शामिल हुए।

 

रिक्त पद भरने, ठेका प्रथा बंद करने की मांग
लालगढ़ स्थित वर्कशॉप के आगे नार्थ वेस्टर्न रेलवे यूनियन के शाखा सचिव रमजान अली के नेतृत्व में प्रदर्शन किया गया। इस दौरान वक्ताओं ने कारखाना में विभिन्न कैटेगरी के रिक्त पद भरने, पेंशन नीति में बदलाव, ठेका प्रथा बंद करने सहित कई मांगें रखी। प्रदर्शन में विजय श्रीमाली, लूणकरण टांक, रामेश्वर लाल, मुस्ताक अली, विनोद कुमार, दिनेश सिंह आदि शामिल हुए।

 

पुनर्वास की मांग को लेकर प्रदर्शन
बीकानेर. रिडमलसर के किसानों के पुनर्वास की मांग को लेकर सोमवार को जिला कलक्टर कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया गया। किसान नेता जयनारायण व्यास के नेतृत्व में पीडि़त परिवार के लोगों ने इस बात पर रोष जताया कि पट्टेशुदा मकान गिराए जाने के लम्बे समय के बाद व वर्ष 2013 में फैसला होने के बाद भी पीडि़त परिवारों को न्याय नहीं मिल। प्रतिनिधि मंडल सालगराम नायक, सुखाराम, दुलाराम, बद्री महाराज, आदुराम ने जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा।

dinesh swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned