पदक जीते पर अब तक नहीं मिली पुरस्कार राशि

राज्य सरकार की ओर से खेल प्रतिभाओं को तराशने के लिए पिछले माह 2 से 6 जनवरी को जयपुर में आयोजित राज्य खेल 2020 में अलग-अलग खेलों में बीकानेर का प्रतिनिधित्व करने वाले पदक विजेताओं को डेढ़ माह बाद भी पुरस्कार राशि का इंतजार है।

बीकानेर. राज्य सरकार की ओर से खेल प्रतिभाओं को तराशने के लिए पिछले माह 2 से 6 जनवरी को जयपुर में आयोजित राज्य खेल 2020 में अलग-अलग खेलों में बीकानेर का प्रतिनिधित्व करने वाले पदक विजेताओं को डेढ़ माह बाद भी पुरस्कार राशि का इंतजार है।

राज्य खेल में बीकानेर के पदक विजेताओं के न तो खाते में और न ही नकद पुरस्कार राशि मिली है। इस राज्य खेल में बीकानेर से करीब 251 खिलाडि़यों ने भाग लिया था। जिसमें 26 खिलाडि़यों ने अलग-अलग वर्ग में गोल्ड, सिल्वर व कांस्य पदक जीते थे।

बीकानेर में इन खिलाडि़यों ने साधन व संसाधन नहीं होने के बावजूद मेडल जीते थे फिर भी राज्य सरकार की ओर से इन खिलाडि़यों को पुरस्कार राशि नहीं दी गई है। एेसे में कई खिलाड़ी तो पुरस्कार राशि नहीं मिलने से निराश है।

खिलाडि़यों ने बताया कि अगर पुरस्कार राशि समय पर नहीं मिलती है तो इससे खिलाडि़यों के खेल पर काफी असर पड़ता है। खेल विभाग के कोच व अधिकारियों ने बताया कि राज्य सरकार ने अभी तक चार-पांच सालों के राष्ट्रीय स्तर के पदक विजेताओं को भी राशि नहीं दी है, राज्य खेल तो अभी हुए है। एेसे में इन राज्य खेलों के पदक विजेताओं को राशि में समय लगेगा।

इन खेलों में जीते खिलाडि़यों ने पदक
तैराकी दस (तीन गोल्ड, चार रजत, तीन कांस्य)
तीरंदाजी एक (कांस्य पदक)
बॉक्सिंग दो (एक गोल्ड, एक कांस्य)
भारोत्तोलन सात (एक गोल्ड, तीन रजत, तीन कांस्य )
जूडो दो (एक गोल्ड व एक कांस्य)
कुश्ती तीन (दो कांस्य व एक गोल्ड)

इतनी मिलती है राशि
पदक राशि टीम व्यक्तिगत
स्वर्ण पदक 51,000 21000
रजत पदक 41,000 11,000
कांस्य पदक 31,000 51,00

राज्य खेल में कुश्ती में गोल्ड मेडल जीता है, लेकिन अभी तक पुरस्कार राशि नहीं मिली है। पुरस्कार राशि कैसे मिलेगी यह भी पता नहीं। मुझसे कोई खाता नंबर भी नहीं मांगा। अगर पुरस्कार राशि समय पर नहीं मिलती है खिलाड़ी आगे कैसे बढ़ेंगे। अभी तो अंडर 23 प्रतियोगिता के लिए तैयारी कर रहा हूं।
भूराराम हुड्डा, कुश्ती खिलाड़ी


इतनी मेहनत करने के बाद भी पुरस्कार राशि नहीं मिलती है। अगर समय पर पुरस्कार राशि मिल जाती है तो खिलाडि़यों का हौंसला बढ़ता है। मैंने राज्य खेल में दो सिल्वर व एक कांस्य पदक जीता है, अभी राज्य स्तर की प्रतियोगिता के लिए तैयारी कर रही हूं।
भजनीता साध, तैराकी खिलाड़ी


राज्य खेल होने के बाद में खिलाडि़यों को नकद राशि मिलने की उम्मीद थी, खिलाडि़यों को अगर राशि जल्द से जल्द मिल जाएं तो आगे होने वाले प्रतियोगिताओं में फायदा मिल सकता था।
अनिल जोशी, तीरंदाजी प्रशिक्षक

Nikhil swami Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned