कोरोना संकट में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मौन प्रदर्शन, सुरक्षा उपकरण, 50 लाख का बीमा और मांगी प्रोत्साहन राशि

कोरोना के क्वॉरंटीन सेंटरों में बगैर सुरक्षा किट के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं की ड्यूटी लगाई जा रही है।

By: GANESH VISHWAKARMA

Updated: 26 May 2020, 09:40 PM IST

बिलासपुर. कोरोना के क्वॉरंटीन सेंटरों में बगैर सुरक्षा किट के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं की ड्यूटी लगाई जा रही है। इससे कार्यकर्ताओं व सहायिकाओं में संक्रमण फैलने का अंदेशा है। सुरक्षा किट देने समेत अनेक मांगों को लेकर मंगलवार को छत्तीसगढ़ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सहायिका संघ ने मौन प्रदर्शन करके कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा गया ।

संघ की ने कहा कि गत दो महीनों से कोरोना वायरस का संक्रमण का जिले में तेजी से फैलाव हो रहा है। सभी संवेदनशील जगहों पर हमारी ड्यूटी लगाई जा रही है । जिनमें संक्रमित व्यक्तियों का सर्वे संक्रमित लोगों के लिए बनाए गए क्वॉरंटीन सेंटर वहां निगरानी एवं देखभाल हेतु ड्यूटी शामिल है । इन सभी कार्यों के दौरान हमें किसी भी प्रकार की सुरक्षा सामग्री नहीं दी जा रही है, न हीं सैनिटाइजर, मास्क या अन्य कोई भी सामग्री दिए बिना ही संक्रमण वाले जगहों में भेज दिया जा रहा है । ऐसी अवस्था में कार्यकर्ताओं को भी संक्रमण का गंभीर खतरा बना हुआ है। जिसकी जिम्मेदारी कौन लेगा।
संघ का एक प्रतिनिधिमंडल जिला अध्यक्ष सुनीता सिंह के नेतृत्व में कलेक्टर की अनुपस्थिति में नजूल अधिकारी अवधराम टंडन को ज्ञापन सौंपा है। संघ की मांगों में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका को भी अन्य अद्र्ध शासकीय कर्मियों की तरह 50 लाख रुपए का बीमा लाभ दिया जाए, अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि दिया जाए, कार्यों के दौरान आवश्यक सुरक्षा संसाधन पीपीई किट आदि उपलब्ध कराया जाए तथा सेवानिवृत्त होने वाले कार्यकर्ता एवं सहायिकाओं को एकमुश्त राशि प्रतिमाह पेंशन निर्धारित किया जाए। संघ के प्रतिनिधिमंडल में जिला अध्यक्ष सुनीता सिंह के अलावा जिला सचिव भारती मिश्रा ,नीतू सोमवार, चिंतामणि ,कोमल मेश्राम ,नीता मेश्राम राधा बोले आदि शामिल थे।

GANESH VISHWAKARMA Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned