एटीएम से गायब राशि को बैंक ने लौटाया, पर रहस्य बरकरार

किसानों की राशि गायब होने की जांच बैंक प्रबंधन, सिविल लाइन पुलिस, अपेक्स बैंक की टीम, संयुक्त पंजीयक सहकारी संस्थाएं एवं पुलिस की साइबर क्राइम ब्रांच जांच कर रही है। फिर भी कोई भी जांच एजेंसी किसी नतीजे पर पहुंच नहीं पाई है। जांच को तीन माह गुजर गए।

By: Karunakant Chaubey

Published: 28 Sep 2020, 03:28 PM IST

बिलासपुर. जिला सहकारी केंद्रीय बैंक से रहस्यमय ढंग से गायब चार खातेदारों के ८ लाख २० हजार रुपए को बैंक प्रबंधन ने लौटा दिया है। लेकिन तीन महीने बाद भी एटीएम कार्ड से राशि आहरण होने का रहस्य अब भी बरकरार है। जिस बैंक के प्राधिकारी कलेक्टर डॉ.सारांश मित्तर हैं, उस बैंक की जांच तीन माह में पूरी नहीं हो सकी है। खातेदारों ने एटीएम के लिए कभी आवेदन नहीं किया फिर भी एटीएम कार्ड से राशि निकाली गई। यह बैंक में व्याप्त भर्राशाही को प्रदर्शित करता है।

ग्राम संबलपुरी के कृषक रामकुमार कौशिक, ठाकुरराम साहू , शिवकुमार साहू , एवम प्रतापनाथ चड्डा सेवा सहकारी समिति सकरी के कृषक हैं । उन्होंने अपना एटीएम कार्ड नही लिया था। उनका एटीएम कार्ड बैंक में रखा था। यह कार्ड बैंक से गायब हो गया। खातेदारों के बचत खाते से 8 लाख 20 हजार रुपए निकाल लिए गए। यह राशि बैंक ने अपनी गलती स्वीकार करके सभी खातेदारों की जितनी राशि गायब हुई थी उनके खातों में २४ सितंबर को जमा कराया है।

 

बैंक की लापरवाही

जेएसकेबी बैंक में खातेदारों के एटीएम कार्ड चोरी हो गए, बैंक प्रबंधन ने अपनी तरफ से पुलिस को सूचना देना तक मुनासिब नहीं समझा। उल्टे खातेदार को थाने भेजकर अपने कर्र्तव्यों की इतिश्री कर ली।

किसानों की राशि गायब होने की जांच बैंक प्रबंधन, सिविल लाइन पुलिस, अपेक्स बैंक की टीम, संयुक्त पंजीयक सहकारी संस्थाएं एवं पुलिस की साइबर क्राइम ब्रांच जांच कर रही है। फिर भी कोई भी जांच एजेंसी किसी नतीजे पर पहुंच नहीं पाई है। जांच को तीन माह गुजर गए।

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned