मुंगेली में मोहले, मस्तूरी में कांग्रेस व भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर, इस बार मुकाबला रोचक

मुंगेली में मोहले, मस्तूरी में कांग्रेस व भाजपा की प्रतिष्ठा दांव पर, इस बार मुकाबला रोचक

Anil Kumar Srivas | Publish: Sep, 08 2018 01:07:54 PM (IST) Bilaspur, Chhattisgarh, India

मस्तूरी में टिकट को लेकर कांग्रेस से दिलीप लहरिया और भाजपा के पूर्व मंत्री डॉ. कृष्ण मूर्ति बांधी की प्रतिष्ठा दांव पर है।

बिलासपुर. मुंगेली और मस्तूरी में विधानसभा चुनाव को लेकर अभी से घमासान छिड़ गया है। दोनों सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। मुंगेली में भाजपा से खाद्य मंत्री पुन्नूलाल मोहले हैं। यहां जनता कांग्रेस से पूर्व विधायक चदं्रभान बारमते दावेदारी कर रहे हैं। कांग्रेस से 20 प्रत्याशी टिकट के लिए जोरआजमाइश कर रहे हैं। मस्तूरी में टिकट को लेकर कांग्रेस से दिलीप लहरिया और भाजपा के पूर्व मंत्री डॉ. कृष्ण मूर्ति बांधी की प्रतिष्ठा दांव पर है। क्षेत्र में दोनों पार्टी से लगभग 20-20 दावेदार हैं। दोनों जगह पर जनता कांग्रेस और आप पार्टी की दखल कम नहीं है।
लंबे समय से काबिज मोहले बन गए हैं कांग्रेस व जोगी कांग्रेस के लिए चुनौती : विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा-कांग्रेस में घमासान बचा है। मुंगेली से खाद्य मंत्री पुन्नुलाल मोहले द्वारा दावेदारी की जा रही है। मोहले लंबे समय क्षेत्र में सांसद, विधायक के अलावा मंत्री भी रहे हैं। भाजपा में अनेक दावेदार हैं, लेकिन मोहले के अलावा कोई दावेदारी करने आगे नहीं आ रहा। इसलिए वे भाजपा से अकेले ही मजबूत दावेदार हैं। जबकि उनके विरुद्ध चुनाव लडऩे के लिए कांग्रेस पार्टी से चुरावन मंगेश्कर, राकेश पात्रे, दुर्गा बघेल, दिलीप बंजारे सहित 20 लोगों ने आवेदन जमा किया है। इसमें एक ही दावेदार ज्यादा मजबूत दिखाई नहीं दे रहे। अन्य दावेदार अपेक्षाकृत कमजोर है। वहीं कांग्रेस में जो मुंगेली क्षेत्र का मजबूत दावेदार माना जाता था, पूर्व विधायक चंद्रभान बारमते पार्टी छोड़कर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के पार्टी जनता कांग्रेस का दामन थाम चुके हैं। ऐसा माना जा रहा है इस बार मुंगेली में भाजपा और जनता कांग्रेस के बीच मुकाबला रहेगा। इस क्षेत्र से भाजपा को हराना सभी पार्टी के लिए बड़ी चुनौती है। आप पार्टी द्वारा यहां रामकुमार गंधर्व को प्रत्याशी घोषित कर दिया गया है। गंधर्व तीनों पार्टी का समीकरण बिगाडऩे के लिए मैदान में हैं।

मस्तूरी विधानसभा क्षेत्र कांग्रेस और भाजपा के लिए बना प्रतिष्ठा का प्रश्न : मस्तूरी विधानसभा क्षेत्र में इस बार कांग्रेस के विधायक दिलीप लहरिया फिर से टिकट के लिए दावेदार हैं। पिछले चुनाव में उन्होंने पूर्व मंत्री डॉ. कृष्ण मूर्ति बांधी को 24 हजार मतों से हराया था। लहरिया को अजीत जोगी का बेहद करीबी माना जाता था। हालांकि लहरिया पर निष्क्रियता के आरोप भी हैं। कांग्रेस संगठन द्वारा सक्रिय नहीं होने का इन पर लगातार उंगलियां उठाई गई। यही कारण है कि क्षेत्र में अनुसूचित जाति की अध्यक्ष मीना आडिल, महेन्द्र गंगोत्री, गिरजा शंकर जौहर, सरोज डहरिया, मदनलाल टंडन सहित 20 दावेदारों ने कांग्रेस से टिकट के लिए आवेदन किया है। इधर भाजपा से पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. कृष्ण मूर्ति बांधी फिर टिकट के प्रबल दावेदार हैं। वे क्षेत्र में काफी सक्रिय हैं। भाजपा से ही मस्तूरी नगर पंचायत अध्यक्ष चांदनी भारद्वाज, रामनाराण भारद्वाज, पृथ्वीपाल, चंद्रकांत सूर्या सहित 20 दावेदार हैं। चांदनी सांसद कमला पाटले की बेटी हैं, इसलिए वे भी टिकट के लिए प्रबल दावेदार मानी जा रही हैं। वहीं जनता कांग्रेस से राजेश्वर भार्गव, लक्ष्मी भार्गव और आप पार्टी से लक्ष्मी गंधर्व दावेदारी के लिए तैयार हैं। यह दोनों भी अपनी किस्मत अजमाएंगे।

जनता भाजपा के साथ है : नता भाजपा के साथ है। कांग्रेस, जनता कांग्रेस यह दोनों विपक्षी दल हमको नुकसान नहीं पहुंचा पाएगी। क्योंकि भाजपा ने क्षेत्र में अनेक विकास कार्य कराएं है। भाजपा शासनकाल में ही मुंगेली को जिले का दर्जा मिला है। इसलिए जनता हमें प्रचंड मतों से जिताएगी।
कोमल गिरी गोस्वामी, जिलाध्यक्ष भाजपा, मुंगेली
कांग्रेस दमखम के साथ लड़े्रगी चुनाव : मस्तूरी में कांग्रेस दमखम के साथ चुनाव लड़ेगी। क्षेत्र में भाजपा नेताओं द्वारा बड़े-बड़े घोटाले किए गए हैं। नगर पंचायत भी इससेअछूता नहीं रहा है, जिसका लाभ हमे मिलेगा। इस बार हम फिर से भाजपा को मस्तूरी की जमीन पर पटखनी देंगे।
विजय केशरवानी, जिलाध्यक्ष कांग्रेस, बिलासपुर

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned