मतदान जरूर करें और पर्व में हिस्सा लें, नोटा दबाकर अमूल्य मत बर्बाद न करें, कुछ ऐसे ही शब्दों से जागरुक करने की कोशिश में भाजपा

नोटा और वोटिंग का कम प्रतिशत बढ़ा रही संघ और भाजपा की चिंता, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और वनवासी विकास समिति चलाएंगे जागरूकता अभियान

By: BRIJESH YADAV

Updated: 10 Apr 2019, 12:43 PM IST

बिलासपुर. नोटा और कम मतदान को लेकर संघ और भाजपा के ज्यादातर अनुषांगिक संगठन चिंतित है। यही वजह है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और वनवासी विकास समिति जैसे संगठन अनिवार्य मतदान करने और नोटा के बजाए राष्ट्रहित में निर्णय लेकर सही नेता का चयन करने लोक जागरण और जनजागरण अभियान पर जोर दे रहे हैं।
संघ के एक पदाधिकारी ने बताया कि नागपुर मुख्यालय में हुई मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के स्वयंसेवक संघ की बैठक में इस बात को लेकर मंथन किया गया कि नोटा और मतदान में कोताही भाजपा को भारी पड़ रही है। विधानसभा चुनाव में मतदाताओं ने प्रत्याशियों को नापसंद करते हुए नोटा पर बटन दबाकर अपना वोट बर्बाद किया। इसके चलते भाजपा प्रत्याशियों को हार का सामना करना पड़ा। कई विधानसभा क्षेत्रों में नोटा में जितने वोट पड़े उससे कम वोटों के अंतर से हार जीत हुई है। यही वोट यदि भाजपा को मिलते तो यह नौबत नहीं आती। वहीं इस बात को लेकर भी चिंतन किया गया कि ज्यादातर मतदाताओं में मतदान के प्रति रुचि नहीं है, इसलिए जनजागरण कर अनिवार्य मतदान करने और नोटा का उपयोग करने के बजाए राष्ट्रहित में अपने पसंद के व्यक्ति का चयन करने के लिए प्रेरित किया जाए। यही वजह है कि प्रत्यक्ष रूप से भाग लेने के बजाए वे लोकजागरण अभियान के तहत जगह-जगह घूमकर लोगों को अनिवार्य मतदान करने और नोटा में वोट बर्बाद न करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। ताकि वे राष्ट्रहित में योग्य व्यक्ति योग्य नेता का चयन कर सकें जो राष्ट्र को ऊंचाई पर ले जाकर देश का नाम रौशन करने में सहभागिता निभा सके।
अभाविप ने चलाया 'नेशन फस्र्ट, मतदान मस्टÓ
विद्यार्थी परिषद विद्यार्थियों का संगठन है। हम चुनाव में प्रत्यक्ष नहीं अप्रत्यक्ष रूप से भागीदारी निभा रहे हैं। मतदाताओं को जागरूक करने के लिए कॉलेज और हॉस्टल में युवाओं को शतप्रतिशत मतदान करने के लिए नेशन फस्र्ट वोटिंग मस्ट और यूथ गो टू बूथ का नारा देकर जागरूक किया जा रहा है। सभी 184 इकाइ के द्वारा यह अभियान चलाया जा रहा है। युवाओं और आम मतदाओं को संदेश दिया जा रहा है कि शत-प्रतिशत मतदान कर योग्य प्रत्याशी का चयन करें व अपने मताधिकार का प्रयोग करें।
सन्नी केशरी, प्रदेश मंत्री, एबीवीपी
वनवासी विकास समिति ने चलाया जागरूकता अभियान
कोई दायित्व नहीं दिया गया है, हम प्रत्यक्ष नहीं अप्रत्यक्ष रूप से जनजागरण का काम कर रहे हैं। मतदाताओं को जागरूक कर रहे हैं कि वे राष्ट्रीय मुद्दों और राष्ट्रहित को ध्यान में रखकर अनिवार्य मतदान करें। ऐसे नेता का चयन करें जो आपके हित में काम करे ऐसे योग्य व्यक्ति का प्रधानमंत्री के लिए चयन करें जो राष्ट्र को ऊंचाइयों पर ले जा सके, देश सुरक्षित रहे। ताकि लोग अनिवार्य रूप से वोटिंग करें और अपने वोट को बर्बाद न होने दें।
ब्रजेंद्र शुक्ला, अध्यक्ष वनवासी विकास समिति
संघ के प्रचारक ले रहे टोह
नागपुर मुख्यालय से संघ के प्रचारकों का आवागमन और दौरा जारी है, संघ के प्रचारक यहां लोकसभा चुनाव के मद्देनजर बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र के सभी विधानसभा क्षेत्र का दौरा कर भाजपा और आरएसएस की गतिविधियों की टोह ले रहे हैं। हालांकि उनका आवागमन पूरी तरह गोपनीय है। बताया जाता है कि अभी तक प्रांत प्रचारक प्रेमसिंह सिदार, छत्तीसगढ व मध्यप्रदेश के प्रमुख प्रचारक दीपक विस्पूते और प्रज्ञा प्रवाह के सदानंद सप्रे लोकसभा क्षेत्र के सभी विधानसभा इलाकों में डेरा डालकर तय रणनीति के तहत अपनी भूमिका अदा कर चुके हैं। बताया जाता है कि इन प्रचारकों को सभी विधानसभा क्षेत्र के बुद्धिजीवियों और पार्टी से जुड़े वरिष्ठजनों से संपर्क के कार्य में लगाया गया है।
ये रही नोटा की स्थिति
गत 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में जहां 11 सीटों पर 2 लाख 24 हजार 659 वोट पड़े थे। वहीं तीन माह पूर्व हुए विधानसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ की 90 सीटों पर 2 लाख 82 हजार 744 वोट पड़े हैं।
युवा और महिला मोर्चा उतरे मैदान में
इधर भाजपा युवा मोर्चा, महिला मोर्चा समेत अन्य मोर्चा, प्रकोष्ठ ने पूर्व मंत्री और बिलासपुर लोकसभा संयोजक अमर अग्रवाल से मिले निर्देश के बाद अपने-अपने क्षेत्र में जनसंपर्क शुरू कर दिया है। सभी तय की गई रणनीति के मुताबिक जनसंपर्क कर पक्ष में माहौल बनाने के लिए जोर लगा रहे हैं।

BJP
Show More
BRIJESH YADAV Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned