निर्दयी पति ने पत्नी को तीसरी मंजिल से मारा धक्का, जानें फिर क्या हुआ

निर्दयी पति ने पत्नी को तीसरी मंजिल से मारा धक्का, जानें फिर क्या हुआ

Amil Shrivas | Publish: Jun, 14 2018 01:20:43 PM (IST) Bilaspur, Chhattisgarh, India

शादी के एक वर्ष बाद अभिजीत दूसरी लड़की से प्रेम करने लगा। सकरी में अभिजीत को पुलिस ने एक युवती के साथ पकड़ा था।

बिलासपुर. विवाद के बाद पत्नी को जान से मारने पति ने तीसरी मंजिल से धक्का दे दिया। पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गई। सिम्स में उसका इलाज चल रहा है। घटना सोमवार दोपहर 2 बजे जबड़ापारा में हुई। आरोपी पति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सरकंडा पुलिस के अनुसार, जबड़ापारा में रमेश पाण्डेय के मकान में किराए पर रहने वाली सुनीता महिलांगे (24) का विवाह वर्ष 2015 में जबड़ापारा के अभिजीत पिता प्रेम महिलांगे (29) से हुआ था। दोनों की एक वर्ष की बेटी (तान्या) है। शादी के एक वर्ष बाद अभिजीत दूसरी लड़की से प्रेम करने लगा। सकरी में अभिजीत को पुलिस ने एक युवती के साथ पकड़ा था। इसके बाद पति-पत्नी के बीच इसे लेकर होता था। अभिजीत अक्सर सुनीता से मारपीट करता था। सुनीता की शिकायत पर पुलिस ने अभिजीत के खिलाफ कार्रवाई की थी। बाद में दोनों के बीच समझौता हो गया था। इसके बाद सुनीता की मुलाकात एक महिला से हुई। महिला उसके घर आया करती थी। अभिजीत ने उस महिला से पे्रम करने लगा। इस बात पर फिर अभिजीत और सुनीता के बीच विवाद होने लगा। अभिजीत कई दिन तक घर से बाहर रहता था। 9 जून को सुनीता की तबीयत खराब होने पर उसे मकान मालिक रमेश पाण्डेय ने सिम्स में भर्ती किया था। इस बीच सुनीता ने अभिजीत को मोबाइल पर कई बार कॉल किया, लेकिन उसने सुनीता के नंबर को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया था। 11 जून को सुनीता ने अभिजीत के मोबाइल पर अस्पताल से डिस्चार्ज होने का मैसेज भेजा। 11 जून को ही दोपहर 1 बजे अभिजीत घर पहुंचा। सुनीता ने उसे 3 दिन तक बाहर रहने का कारण पूछा। इस पर उसने सुनीता के साथ विवाद किया। सुनीता छत की तीसरी मंजिल पर चली गई। पीछे-पीछे अभिजीत भी छत पर पहुंचा और सुनीता से मारपीट करते हुए उसे छत से घक्का दे दिया। नीचे गिरने से सुनीता गंभीर रूप से घायल हो गई। सिम्स में उसका इलाज चल रहा है।

बयान के बाद अस्पताल से पति को किया गया गिरफ्तार : सरकंडा पुलिस मंगलवार को सुनीता का बयान दर्ज करने सिम्स पहुंची। उसने पुलिस को शादी के बाद से पति अभिजीत की प्रताडऩा, मारपीट और छत से धक्का देकर जान से मारने का प्रयास करने की कहानी सुनाई। बयान दर्ज करने के बाद पुलिस ने अभिजीत को अस्पताल से ही हिरासत में ले लिया। उसके खिलाफ धारा 307 के तहत कार्रवाई करते हुए पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। उसे कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया गया।
परिजनों व डॉक्टरों को दी झूठी जानकारी : सोमवार दोपहर सुनीता को छत से गिराने के बाद अभिजीत ने परिजनों को मोबाइल पर कॉल करके ये बताया कि सुनीता तीसरी मंजिल से कूद गई है। इधर अभिजीत ने सुनीता को सिम्स में भर्ती कराया और अपना पता जरहाभाठा लिखवा दिया। अस्पताल से मेमो सिविल लाइन भेजा गया। पुलिस जरहाभाठा पहुंची तो पता चला कि सुनीता और अभिजीत जबड़ापारा में रहते हैं। इसके बाद सिविल लाइन थाने से मेमो सरकण्डा थाने भेजा गया।

Ad Block is Banned