डी रेल की घटना में सीनियर डीन व डीन को ठहराया गया दोषी, इंजीनियरिंग विभाग कर रहा विरोध

जांच कमेंटी की जांच में यह बात सामने आई है कि घटना का कारण बैगन की पैरा मिटर लिमिट से अधिक होना बताया वही इंजीनियरिंग विभाग का पैरामिटर लिमिट के अंदर होना बताया है। रेलपथ नीयम के पैरा मीटर ५३६ के तहत इंजीनियरिंग विभाग तहत आने वाले सारे नियम लिमिट में है।

By: Karunakant Chaubey

Published: 18 Nov 2020, 08:22 PM IST

बिलासपुर. रेलवे स्टेशन यार्ड में 5 अक्टूबर को (02834) हावड़ा अहमदाबाद स्पेशल के साथ आ रही मिल्क वैगन पटरी से उतर गई थी। मामले की जांच के बाद गठीत कमेटी ने घटना के लिए कैरेज एंड वैगन(मैकेनिकल) विभाग व इंजीनियरिंग विभाग को बराबर दोषी बनाया था। बावजूद इसके महाप्रबंधक ने दोषपूर्ण कार्रवाई करते हुए इंजीनियरिंग विभाग को दोषी बताया है, यह आरोप दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे इंजीनियर्स एसोसिएशन ने लगाया है।

जांच कमेंटी की जांच में यह बात सामने आई है कि घटना का कारण बैगन की पैरा मिटर लिमिट से अधिक होना बताया वही इंजीनियरिंग विभाग का पैरामिटर लिमिट के अंदर होना बताया है। रेलपथ नीयम के पैरा मीटर 536 के तहत इंजीनियरिंग विभाग तहत आने वाले सारे नियम लिमिट में है।

फर्जी जाति प्रमाण पत्र वाले 267 शासकीय सेवक होंगे बर्खास्त, इन विभागों के कर्मचारियों पर गिरेगी गाज

कमेटी ने इंजीनियरिंग व वैगन एंड कैरेज विभाग को संयुक्त रूप से दोषी माना था, जांच रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई होनी थी लेकिन महाप्रबंधक एसईसीआर ने वैगन एंड कैरेज को क्लीन चिट देते हुए इंजीनियरिंग विभाग पर घटना होने का जिम्मेदार बना दिया गया।

महाप्रबंधक द्वारा द्वेष पूर्ण कार्रवाई के विरोध में इंजीनियरिंग विभाग ने र्मोचा खोल दिया है। इंजीनियरिंग विभाग का कहना है कि जांच कमेटी रेलवे मुख्यालय में बनाई थी। टीम में उपमुख्य संरक्षा अधिकारी इंजीनियरिंग नारायण लाल, नवनीत राज उपमुख्य सरंक्षा अधिकारी, उप मुख्य संरक्षा अधिकारी इलेक्ट्रीकल राजेश सिंह, उपमुख्य मैकेनिकल इंजीनियर जीएन सिंह व वरिष्ठ सरंक्षा अधिाकीर केवी रमना ने जांच की है। जांच रिपोर्ट में जो लिखा था उसका या तो पूरी तरह पालन किया जाना था या फिर जांच रिपोर्ट को खारिज कर दूबारा जांच होनी चाहिए थी।

लेकिन महाप्रबंधक गौतम बनर्जी द्वारा इंजीनियरिंंग विभाग को निशाना बनाया गया है। यह समझ से परे है। एसोसिएशन ने इस कार्रवाई को न्यायालय में चुनौती देने की योजना पर भी विचार कर रहा है। पूरे मामले को रेलवे सीपीआरओ साकेत रंजन का कहना है कि संरक्षा रेलवे की सर्वोच्च प्रथामिकता है। जांच के बाद लापरवाही करने वालो को सजा मिलती है। नियमानुसार कार्रवाई होती है।

ये भी पढ़ें: छठ पूजा के लिए ट्रेनों में बढ़ी भीड़, लोकल के यात्री भी हलाकान

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned