टोनही प्रताड़ना से परेशान महिला ने खुद पर लगाई आग, सिम्स में भर्ती

टोनही डायन को लेकर अंधविश्वास का एक मामला सामने आया है। जिसमे गांव के लोगों के प्रताड़ना से तंग आकर एक महिला ने खुदखुशी करने का प्रयास करते हुए अपने ऊपर आग लगा ली।

By: Ashish Gupta

Published: 09 Jun 2021, 11:01 PM IST

बिलासपुर. छत्तीसगढ़ के सामाजिक बुराइयों में से एक टोनही प्रताड़ना अभी भी खत्म नहीं हुई है। गांवों में आज भी अक्सर किसी भी महिला को टोनही कह कर अपमानित करना, सामूहिक रूप से मार डालना बंद नहीं हो पाया है। जिले में भी टोनही डायन को लेकर अंधविश्वास का एक मामला सामने आया है। जिसमे गांव के लोगों के प्रताड़ना से तंग आकर एक महिला ने खुदखुशी करने का प्रयास करते हुए अपने ऊपर आग लगा ली। समय रहते परिजनों ने देख लिया और महिला को इलाज के लिए सिम्स में भर्ती कराया है।

कोनी थाना क्षेत्र के ग्राम पोसरा निवासी किसान रघुवीर सिह की 36 वर्षीय पत्नी राशि ठाकुर को गांव के ही कुछ लोग टोनही होने का दावा करते हुए उसे रोजना प्रताड़ित करते थे। तंग आकर महिला ने बुधवार सुबह 5 बजे अपने घर के छत में अपने ऊपर मिट्टी तेल डालकर आग लगा ली। इस बीच घर में अपनी मां को नहीं देख राशि ठाकुर का 17 वर्षीय बेटा विनय उन्हें हुए छत पर पहुंचा, जहां राशि मिट्टी तेल डाल कर अपने ऊपर आग लगा रही थी।

यह भी पढ़ें: छोटे भाई से हुई गालीगलौज का बदला लेने आरोपी ने दोस्तों के साथ मिलकर की चाकूबाजी, हुआ गिरफ्तार

आनन-फानन में विनय कंबल लेकर अपने मां के ऊपर लगे आग को बुझाने लगा। चिल्लाने की आवाज सुन घर के अन्य सदस्य भी छत में पहुंचे और आग पर काबू पाया। लेकिन तब तक महिला काफी जल चुकी थी। जिसे 112 की मदद से सिम्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है, जहां बर्न वार्ड में महिला का इलाज किया जा रहा है।

तहसीलदार ने लिया बयान, पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार
राशि के परिजनों ने बयान दर्ज कराया है कि गांव के ही राजू ठाकुर, करतार ठाकुर, भारत ठाकुर सहित जगवेश ठाकुर द्बारा महिला के सुहाग भंडार की दुकान में रोजाना पहुंच गाली गलौज करते थे। जिससे तंग आकर महिला ने यह कदम उठाया है। इधर कोनी पुलिस ने घटना के सूचना के बाद तत्काल आरोपियों को अपने हिरासत में ले लिया और पूछताछ की। वही मामले में तहसीलदार सिम्स हॉस्पिटल के बर्न वार्ड पहुंच महिला का बयान दर्ज कर उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

यह भी पढ़ें: माता-पिता की मौत के बाद बड़े पिता के घर रह रही युवती की फंदे पर झूलती मिली लाश से सनसनी

टोनही कहने पर 3 और प्रताड़ित करने पर 5 साल की सजा
छत्तीसगढ़ देश में पहला ऐसा राज्य है। जहां हर गांव में पहले टोनही प्रताड़ना का दर्जनों महिला शिकार होती थी। ग्रामीणों द्बारा इसकी हत्या होने लगी ऐसे में इन घटनाओं को रोकने के लिए कानून बना जिसे छत्तीसगढ़ में टोनही प्रताड़ना निवारण अधिनियम 2005 के तहत किसी को भी टोनही कहने पर 3 साल का कठोर कारावास, जुर्माने का प्रावधान है। शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित करने या नुकसान पहुंचाने पर 5 साल के कठोर कारावास और जुर्माने का प्रावधान है।

Show More
Ashish Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned