झारखंड: बोकारो स्टील प्लांट में लगी भीषण आग, करोड़ों रुपये के नुकसान की संभावना

झारखंड स्थित बोकारो स्टील प्लांट के फर्नेस संख्या दो में टारपीडो लेडल में ब्लास्ट होने की वजह से भीषण आग लग गई। इसमें कोई हताहत नहीं हुआ, लेकिन करोड़ों रुपये के नुकसान की संभावना जताई जा रही है।

By: Anil Kumar

Updated: 23 Jul 2021, 09:37 PM IST

बोकारो। झारखंड स्थित बोकारो स्टील प्लांट (Bokaro Steel Plant) में शुक्रवार को भीषण आग लग गई। इसके बाद देखते ही देखते चारों तरफ अफरा-तफरी मच गई। जानकारी के मुताबिक, बोकारो स्टील प्लांट के फर्नेस संख्या दो में टारपीडो लेडल में ब्लास्ट होने की वजह से आग लगने की यह घटना घटी है।

रिपोर्ट के अनुसार, फर्नेस-2 टारपीडो लैडल से हुए रिसाव के कारण पिघलता लोहा रेलवे ट्रैक पर बहने लगा। इसकी वजह से देखते ही देखते भीषण आग लग गई। यह घटना सुबह 8 बजकर 40 मिनट पर हुई। इस हादसे में कोई भी हताहत नहीं हुआ। हालांकि, अनुमान है कि इस आगजनी की घटना से करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है।

इस वजह से लगी आग

जानकारी के अनुसार, हॉट मेटल से लदा हुआ टारपीडो लैडल पंचर हो गया। इसके बाद 1300 डिग्री सेल्सियस तापमान का हॉट मेटल लीकेज होकर टॉरपीडो से बाहर निकलने लगा और पूरे रेलवे ट्रैक पर फैल गया। इसके बाद देखते ही देखते आग लग गई। आग की लपटें इतनी ऊंची उठीं कि पूरे टॉरपीडो को अपनी चपेट में ले लिया।

यह भी पढ़ें :- बोकारो स्टील के एजीएम की पिटाई, भाजपा कार्यकर्ताओं व विधायक पर मारपीट का आरोप

इस घटना के बाद फर्नेस 2 में कामकाज ठप पड़ गया। आगजनी की सूचना मिलते ही मौके पर दमकल विभाग की कम से कम 6 गाड़ियां पहुंची और आग बुझाने की कोशिश की। करीब दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। संभावना जताई जा रही है कि इस आगजनी से करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ है।

इस मामले में बोकारो स्टील के संचार प्रमुख मणिकांत धान ने नुकसान को लेकर कुछ भी बताने से इनकार किया है। घटना के तीन घंटे बाद फिर से उत्पादन शुरू हो गया है। आपको बता दें कि बोकारो स्टील प्लांट में इससे पहले भी ऐसा हादसा हो चुका है। इससे पहले जब लेडल ब्लास्ट हुआ था, तब काफी नुकसान हुआ था।

Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned