शादी के कई साल बाद मां बनी अभिनेत्री गुल पनाग ने दुनिया से छह महीने तक छिपाकर रखा अपने बेटे को

By: Pratibha Tripathi
| Updated: 03 Jan 2020, 11:53 AM IST
शादी के कई साल बाद मां बनी अभिनेत्री गुल पनाग ने दुनिया से छह महीने तक छिपाकर रखा अपने बेटे को

  • गुल पनाग(Gul Panag) आज अपना 41वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रही हैं।
  • गुल पनाग का जन्म 3 जनवरी 1979 को चंडीगढ़ में हुआ था।
  • साल 1999 में मिस इंडिया और मिस ब्यूटीफुल का ख़िताब अपने नाम किया।

नई दिल्ली। बॉलीवुड से लेकर राजनीति तक का सफर तय करने वाली गुल पनाग (Gul Panag)आज अपना 41वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रही हैं। गुल पनाग (Gul Panag) का जन्म 3 जनवरी 1979 को चंडीगढ़ में हुआ था। इनका असली नाम गुलकीरत कौर पनाग है। गुल पनाग एक अच्छी भारतीय फिल्म अभिनेत्री होने के साथ वे एक पायलट, फार्मूला कार रेसर, वीओ आर्टिस्ट और राजनीतिज्ञ हैं।

गुल पनाग ने अपने करियर की शुरुआत बतौर मॉडल की। उसके बाद उन्होंने मिस फेमिना मिस इंडिया में हिस्सा लिया। उन्होंने साल 1999 में मिस इंडिया और मिस ब्यूटीफुल का ख़िताब अपने नाम किया। उसके बाद उन्होंने मिस यूनिवर्स में भी हिस्सा लिया,लेकिन वह ज्यादा आगे ना जा सकी। गुल पनाग अपनी खूबसूरत मुस्कान के लिए मिस ब्यूटीफुल स्माइल का खिताब भी अपने नाम कर चुकी हैं।

gul-panag-.jpg

गुल पनाग ने फिल्म में अपने करियर की शुरूआत साल 2003 में आई फिल्म धूम से किया था । इसके बाद गुल पनाग ने एक के बाद एक जुर्म, डोर, नोरमा सिक्स फीट अंडर, हैलो, स्ट्रेट और रण जैसी कई फिल्मों में काम भी किया। साल 2008 में गुल पनाग मैक्सिम मैग्जीन के लिए करवाए गए अपने बेहद बोल्ड फोटोशूट को लेकर सुर्खियों में छा गई थीं। उन्होंने हिंदी फिल्मों के अलावा पंजाबी फिल्मों में भी काम किया है।

गुल पनाग ने साल 2011 में अपने बचपन के दोस्त पायलट ऋषि अटारी से शादी की थी। उनकी यह शादी सबसे अलग अंदाज में हुई थी। चंडीगढ़ के गुरुद्वारा में शादी करने के बाद उनकी विदाई बुलेट पर हुई थीं। उनका 6 महीने का एक बेटा निहाल है। गुल 39 साल की उम्र में मां बनीं थीं, लेकिन उन्होंने बेटे को दुनिया से छिपाए रखा।

गुल पनाग ने शादी करने के बाद राजनीति में भी किस्मत आजमा चुकी हैं। साल 2014 में पनाग ने आम आदमी पार्टी से जुड़ गयी। 2014 लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने इन्हें चंड़ीगढ़ से प्रत्याशी घोषित किया। यहां इनका मुकाबला बीजेपी की किरण खेर व कांग्रेस के पवन बंसल से था। लेकिन इस चुनाव में उन्हें निराशा ही हाथ लगी थी, क्योंकि वे चुनाव हार गई थीं। इसके बाद से गुल पनाग राजनीतिक से भी काफी दूर हो गई।