बचपन में गन के बदले गुड़िया देने पर बगावत कर दी थी कंगना ने

By: Mahendra Yadav
| Updated: 23 Mar 2020, 10:53 AM IST
बचपन में गन के बदले गुड़िया देने पर बगावत कर दी थी कंगना ने
kangana ranaut

सालगिरह पर विशेष : फिल्मों में शो पीस बनना मंजूर नहीं, नायिका प्रधान कहानियों पर जोर

कुछ अर्सा पहले एक टीवी शो में कंगना रानौत ने कहा था कि वे 'हिली हुई' हैं और फिल्मों में अपनी शर्तों पर काम करती हैं। इस सिलसिले में उन्होंने निदा फाजली का एक शेर भी सुनाया था- 'लोग हर मोड़ पे रुक-रुकके संभलते क्यों हैं/ इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं।' यहां 'हिली हुई' से उनका मतलब था कि वे विद्रोही और जिद्दी हैं। बचपन में भी वे ऐसी ही थीं। एक बार उनके पिता उनके लिए छोटी-सी गुडिय़ा और उनके भाई के लिए प्लास्टिक गन लेकर आए। कंगना ने गुडिय़ा लेने से इनकार कर दिया। वे प्लास्टिक गन लेने पर अड़ गईं। उन्होंने सवाल किया कि गिफ्ट देने में पिता ने भाई-बहन के बीच इस तरह का भेदभाव क्यों किया?

बचपन में गन के बदले गुड़िया देने पर बगावत कर दी थी कंगना ने

फिल्मों में भी यही तेवर
कंगना के यही तेवर फिल्मों में भी बरकरार हैं। वे किसी भी फिल्म में शो पीस वाली हैसियत नहीं चाहतीं और हीरो की बराबरी वाले किरदार पर जोर देती हैं। पिछले कुछ साल से वे 'क्वीन', 'सिमरन', 'मणिकर्णिका' और 'पंगा' जैसी नायिका केंद्रित फिल्मों पर ज्यादा जोर दे रही हैं। उनकी अगली फिल्म 'थलाइवी' भी नायिका प्रधान है, जिसमें वह तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता का किरदार अदा कर रही हैं।

गैंगस्टर से किया कॅरियर शुरू
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले के भांबला में 23 मार्च, 1986 को जन्मीं कंगना का फिल्मी सफर 'गैंगस्टर' (2006) से शुरू हुआ। उनकी प्रमुख फिल्मों में 'वो लम्हे', फैशन, तनु वेड्स मनु, कृष 3, 'कट्टी बट्टी' और 'जजमेंटल है क्या' शामिल हैं। उनकी गिनती मौजूदा दौर की सबसे महंगी अभिनेत्रियों में होती है।

बचपन में गन के बदले गुड़िया देने पर बगावत कर दी थी कंगना ने

डॉक्टर बनना चाहती थीं
कंगना डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन 12वीं में केमिस्ट्री में फेल होने के बाद उन्होंने यह इरादा छोड़ दिया और मॉडलिंग में किस्मत आजमाने घर छोड़कर दिल्ली आ गईं। उन्होंने कथक नृत्य का भी प्रशिक्षण लिया। अब उनका सपना यह है कि फिल्मों से रिटायर होने के बाद उनके पास इतना धन हो कि शिमला में एक फार्म हाउस खरीद सकें।

फिल्में देखने का शौक नहीं
फिल्मों से जुड़ी होने के बावजूद कंगना को फिल्में देखने का शौक नहीं है। उन्होंने अब तक सिर्फ 10 फिल्में देखी हैं। वे टीवी शो भी नहीं देखतीं। उन्हें 'फैशन', 'क्वीन' और 'तनु वेड्स मनु रिटन्र्स' के लिए नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया था।

प्रेम अनंत, विवाद अनंता
कंगना के कई प्रेम संबंध सुर्खियों में रहे। कभी उनका नाम आदित्य पंचोली, कभी अध्ययन सुमन (शेखर सुमन के पुत्र), कभी अजय देवगन तो कभी ऋतिक रोशन के साथ जुड़ा। कुछ कथित प्रेम संबंधों को लेकर विवाद भी हुए। कुछ साल पहले कंगना ने ऋतिक से खुलकर 'पंगा' लिया था और दोनों तरफ के आरोप-प्रत्यारोप कई दिन सुर्खियों में रहे थे।