Nawazuddin Siddiqui ने पत्नी Aaliya को Manoj Bajpayee के सामने किया था बेइज्जत, बच्चों का इग्नोर करने का आरोप

By: Neha Gupta
| Published: 23 May 2020, 01:29 PM IST
Nawazuddin Siddiqui ने पत्नी Aaliya को Manoj Bajpayee के सामने किया था बेइज्जत, बच्चों का इग्नोर करने का आरोप
मनोज वाजपेयी के सामने आलिया सिद्दीकी ने अपमानित करने का किया खुलासा

  • नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) की पत्नी आलिया सिद्दीकी (Aaliya Siddiqui) का बड़ा खुलासा
  • मनोज वाजपेयी (Manoj Bajpayee) के सामने किया था अपमानित (Insult)
  • नवाजुद्दीन पर लगाया बच्चों से ना मिलना के लिए बहाना बनाने का आरोप

नई दिल्ली | बॉलीवुड एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) की पत्नी आलिया सिद्दीकी (Aaliya Siddiqui) लगातार कई खुलासे करती जा रही हैं। नवाजुद्दीन को तलाक (Divorce) का नोटिस भेजने के बाद आलिया ने कई बातें सामने रखी हैं। हाल ही में उन्होंने ट्विटर (Twitter) भी ज्वॉइन किया था ताकि वो सच सबके सामने रख सकें। अब आलिया ने एक और चौंकाने वाला बयान दिया है, उन्होंने बताया कि उन्हें सेलेब्स के सामने अपमानित किया जाता है, बच्चों से ना मिलने के लिए नवाजुद्दीन बहाने बनाते थे।

आलिया सिद्दीकी ने अपने एक रिसेंट इंटरव्यू में बताया कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी (Nawazuddin Siddiqui) अनुपस्थित रहने वाला पिता रहे हैं। उन्होंने एक किस्सा याद करते हुए कहा- कुछ सेलिब्रिटीज़ घर आते थे जैसे एक्टर मनोज वाजपेयी (Manoj Bajpayee)। उस समय भी मेरी सबके सामने बेइज्जती की गई। मैं नवाज के लिए खाना बना रही थीं और मैंने उनकी बातचीत में बात करने की कोशिश की तो उन्होंने मुझसे कहा कि तुमको बात करना नहीं आता, तुम लोगों के सामने बात मत किया करो।

आलिया ने आगे कहा- एक वक्त ऐसा आ गया था कि मुझे हर रोज यही बातें इतनी ज्यादा बोली जाने लगी कि मेरा आत्मविश्वास (Confidence) गिर चुका था। फिर मैं बातचीत वाकई में नहीं कर पाती थी। यहां तक कि अगर मैं कभी किसी प्रेस रिलीज में अचानक चली जाती थी तो नवाज (Nawaz) मुझे इग्नोर कर देते थे। मुझे कभी भी एक पत्नी का सम्मान नहीं मिला, ना लोगों के सामने ना एक इंसान के तौर पर। एक रिक्शेवाले से लेकर सुपरस्टार तक सब अपनी पत्नियों की रिस्पेक्ट करते हैं। मैं बहुत सालों से इससे गुजर रही हूं, एक इंसान को इतना बेइज्जत (Insult) नहीं करना चाहिए कि फिर उसका दम घुटने लगे। हर बार आपको ये एहसास कराया जाता है कि आप कुछ भी नहीं हो, ना आपको बात करना आता है, ना खड़े होना आता है, ना ड्रेसिंग सेंस है कितने वक्त तक एक इंसान ये सबकुछ झेल सकता है। एक समय ऐसा आया जहां मेरा कॉन्फिडेंस जीरो हो गया और मैं बात करने में गड़बड़ियां करने लगीं।