जब रेप सीन में रंजीत ने फाड़े एक्ट्रेस के कपड़े, पिता बोले, 'नाक कटवा दी'

By: पवन राणा
| Published: 10 Jun 2021, 02:19 PM IST
जब रेप सीन में रंजीत ने फाड़े एक्ट्रेस के कपड़े, पिता बोले, 'नाक कटवा दी'

फिल्मों में विलेन का किरदार निभा मशहूर हुए एक्टर रंजीत को एक रेप सीन के चलते घरवालों के गुस्से का सामना करना पड़ा। नाराज पिता ने रंजीत से कहा था कि ये क्या किरदान निभाते हो, बाप की नाक कटवा रहे हो।

मुंबई। बॉलीवुड फिल्मों में कई कलाकारों ने विलेन का रोल निभा लोकप्रियता पाई है। इनमें से कुछ कलाकार ऐसे हैं जिनकी अदाकारी के चलते लोग उन्हें रियल लाइफ में भी खूंखार और उत्पीड़न करने व्यक्ति के रूप में देखते हैं। इन्हीें में से एक हैं अभिनेता रंजीत। रंजीत ने विलेन के रूप में ऐसे किरदार किए कि लोग उनसे असल जिंदगी में भी डरते थे और नफरत करते थे। हालांकि रियल लाइफ में वे अपनी रोल्स से जुदा थे। अपने विलेन के किरदार की वजह से उन्हें एक बार घर वालों ने न केवल खरीखोटी सुनाई थी बल्कि घर से बाहर तक निकाल दिया था।

'बाप की नाक कटवा रहे हो'
ये बात 1971 में आई फिल्म 'शर्मिली' की है। इस फिल्म से रंजीत पहली बार खलनायक के रोल में नजर आए थे। एक इंटरव्यू में रंजीत ने इस फिल्म के एक सीन को लेकर घरवालों के रिएक्शन के बारे में बताया था। रंजीत के अनुसार, वे एक सीन में एक्ट्रेस राखी के कपड़े फाड़ देते हैं और उसका रेप करने की कोशिश करते हैं। इस सीन को देख रंजीत के घरवाले काफी गुस्सा हो गए। उनको खूब खरीखोटी सुनाई गई और घर से बाहर निकाल दिया। एक्टर के पिता ने तो यहां तक कह दिया था कि,'फिल्मों में काम करना है तो डॉक्टर, इंजीनियर का रोल करो, ये क्या किरदार निभाते हो ? बाप की नाक कटवा रहे हो, अमृतसर में क्या मुंह दिखाओगे?'

यह भी पढ़ें: रियल लाइफ में हीरो बनने के बाद Sonu Sood का ऐलान- अब नहीं करूंगा विलेन का रोल

सुनील दत्त ने नाम किया था सजेस्ट
गौरतलब है कि फिल्म 'शर्मिली' 1971 में रिलीज हुई थी। इस मूवी में रंजीत के अलावा राखी, शशि कपूर जैसे दिग्गज कलाकार थे। इस फिल्म में विलेन के किरदार के लिए रंजीत का नाम सुनील दत्त ने रिकमेंड किया था। सुनील को फिल्म 'सावन भादो' और 'रेशमा और शेरा' में रंजीत का काम बहुत पंसद आया था।

यह भी पढ़ें : खलनायक बनकर भी लूट चुके हैं Shahrukh Khan सैकड़ों लोगों का दिल

फिल्मों और टीवी में निभाए रोल
रंजीत ने अपने लंबे फिल्मी करियर में 500 से अधिक फिल्मों में काम किया । इनमें ‘आखिरी दांव’, ‘विक्टोरिया नंबर 203’, ‘रामपुर का लक्ष्मन’, ‘लावारिस’, ‘सावन भादो’, ‘रेशमा और शेरा’, ‘कीमत’, ‘हलचल’, ‘दोस्त और दुश्मन’, ‘गद्दार’, और ‘मां’ जैसी फिल्में शामिल हैं। रंजीत ने फिल्मों के अलावा 'जूनून','ऐसा देस है मेरा', 'घर एक सपना', 'जुगनी चली जालंधर', 'हिटलर दीदी', 'कभी ऐसे गीत करो','भाबी जी घर पर हैं' जैसे टीवी सीरियलों में भी काम किया है।