...अब अमिताभ बच्चन तक पहुंची #MeToo की आग! इस एक्ट्रेस ने लगाए आरोप
Amit Singh
Publish: Oct, 14 2018 05:24:46 (IST) | Updated: Oct, 14 2018 05:24:47 (IST)
...अब अमिताभ बच्चन तक पहुंची #MeToo की आग! इस एक्ट्रेस ने लगाए आरोप

नाना पाटेकर से शुरू हुआ यह सिलसिला अब आलोक नाथ, विकास बहल, अनु मलिक, साजिद खान, कैलाश खेर जैसे बड़े कलाकारों के गिरेबान तक पहुंच गया है।

बॉलीवुड में #MeToo मूवमेंट शुरू होने के बाद कई दिग्गज कलाकारों पर सेक्शुअल हैरसमेंट के आरोप लग चुके हैं। नाना पाटेकर से शुरू हुआ यह सिलसिला अब आलोक नाथ, विकास बहल, अनु मलिक, साजिद खान, कैलाश खेर जैसे बड़े कलाकारों के गिरेबान तक पहुंच गया है।

अब हाल ही में फेमस सेलिब्रिटी हेयरस्टाइलिस्ट सपना भवनानी ने ट्विटर पर बॉलिवुड के मेगास्टार अमिताभ बच्चन पर हमला बोला है। उन्होंने मी टू मूवमेंट से जुड़ी अपनी पोस्ट में अमिताभ की पोस्ट शेयर करते हुए लिखा, 'यह शायद दुनिया का सबसे बड़ा झूठ होगा। सर, 'पिंक' फिल्म रिलीज होकर जा चुकी है और इसी तरह आपकी ऐक्टिविस्ट की इस इमेज के साथ भी ऐसा ही होगा। आपका सच बहुत जल्द सामने आएगा।'

amitabh bachchan

 

महिलाओं को सामने आने के लिए बढ़ावा देते हुए उन्होंने दावा किया, 'मैंने निजी तौर पर अमिताभ बच्चन के बारे में ऐसी बहुत सारी कहानियां सुनी हैं।' उन्होंने ट्वीट कर लिखा, 'बच्चन के सेक्शुअल मिसकंडक्ट के बारे में मैंने बहुत सी कहानियां पढ़ी हैं और उम्मीद है कि वे महिलाएं जल्द सामने आएंगी।'


गौरतलब है कि 11 अक्टूबर को अपने 74वें जन्मदिन पर अमिताभ बच्चन ने आखिरकार मी टू मूवमेंट पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए अपना पक्ष रखा था। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखते हुए कहा था कि किसी भी महिला के साथ खासतौर पर वर्कप्लेस पर कभी कुछ भी गलत नहीं किया जाना चाहिए।


अमिताभ बच्चन इस मामले में कहा कि किसी भी महिला के साथ किसी भी प्रकार का दुर्व्यवहार या अपमानजनक आचरण नहीं होना चाहिए और ऐसे जघन्य कृत्यों को तुरंत संबंधित अधिकारियों के नोटिस में लाया जाना चाहिए। शिकायत दर्ज कराकर या कानून का सहारा लेकर तुरंत सुधारात्मक कदम उठाए जाने चाहिए।

अमिताभ बच्चन ने कहा कि सामाजिकता, नैतिकता, अनुशासन के पाठ्यक्रम को प्रारंभिक शिक्षा के स्तर पर ही शामिल किया जाना चाहिए। अमिताभ ने कहा कि महिलाएं, बच्चे और समाज के कमजोर वर्ग को विशेष सुरक्षात्मक देखभाल की जरूरत है। यह देखना उत्साहजनक है कि वर्कप्लेस पर महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ रहा है। ऐसे में हम अगर उनके अनुरूप उनका स्वागत नहीं कर पाए या उनकी गरिमा की सुरक्षा नहीं कर पाए तो यह एक कभी न मिटने वाले कलंक जैसा होगा।

 

amitabh bachchan