मोक्षदायिनी के तट पर मुक्तिधाम को विकास की दरकार

धार्मिक नगरी में बहने वाली मोक्षदायिनी चर्मण्यवती नदी के किनारे स्थित मुक्तिधाम को विकास की दरकार है।

By: pankaj joshi

Published: 22 Sep 2020, 06:54 PM IST

मोक्षदायिनी के तट पर मुक्तिधाम को विकास की दरकार
धार्मिक नगरी का अनछुआ पहलू
केशवरायपाटन. धार्मिक नगरी में बहने वाली मोक्षदायिनी चर्मण्यवती नदी के किनारे स्थित मुक्तिधाम को विकास की दरकार है। यहां पर विकास नहीं होने से दाह संस्कार के समय लोगों को तो परेशानी उठानी पड़ती है। बारिश के दिनों तो परिजनों को तिरपाल लगाकर दाह संस्कार करना पड़ता है।
मुक्तिधाम पर सुविधाओं का अभाव है। टीन शेड नहीं होने से कई बार लोगों को पानी में भीगते हुए ही संस्कार करवाने पड़ते हैं। अचानक बारिश आने पर लकडियां व सामग्री बारिश में भीग जाती हैं। बैठने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। गर्मी के समय लू के थपेड़े सहने पड़ते हंै। सर्दी से बचने का इंतजाम नहीं है। दाह संस्कार में शामिल होने वालों के लिए बैठने की व्यवस्था नहीं है।
टीनशेड के प्रस्ताव बनाए जाएंगे
चंबल नदी किनारे स्थित मुक्तिधाम में छाया की व्यवस्था नहीं होने से पहले भी टीन शेड के प्रस्ताव बनाकर भिजवाए थे लेकिन चम्बल में पानी आने पर बहने के खतरे को देख कर स्वीकृति नहीं मिली। अब दुबारा प्रस्ताव बनाकर वहां टीन शेड लगवाने की व्यवस्था करवाई जाएगी।
मनोज मालव, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका

pankaj joshi Photographer
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned