जिला कलक्टर को ग्रामीणों ने बताई समस्याएं, सौंपे ज्ञापन

जिला कलक्टर आशीष गुप्ता के गुरुवार को नैनवां आने पर ग्रामीणों का अपनी-अपनी समस्याओं को बताने के लिए ज्ञापन देने वालों का तांता लग गया।

By: Narendra Agarwal

Updated: 29 Jul 2021, 11:36 PM IST

नैनवां. जिला कलक्टर आशीष गुप्ता के गुरुवार को नैनवां आने पर ग्रामीणों का अपनी-अपनी समस्याओं को बताने के लिए ज्ञापन देने वालों का तांता लग गया।
कलक्टर के तहसील कार्यालय में पहुंचतेे ही ज्ञापन देने वालों का मेला लग गया। अलग-अलग गांवों से आए ग्रामीण विद्यालयों, चरागाह, सिवायचक भूमियों, सार्वजनिक तलाइयों पर हो रहेे अतिक्रमण हटवाने की मांग को लेकर ज्ञापन देने तहसील कार्यालय पर पहुंचे। तहसीलदार व पुलिस कर्मियों ने ग्रामीणों से अन्दर जाकर ज्ञापन देने को कहा तो ग्रामीणों ने अधिकारियों से कह दिया कि कलक्टर के बाहर आने के बाद ही ज्ञापन दिया जाएगा। कलक्टर के बाहर आने के बाद ही ज्ञापन दिया जिसमें गंभीरा ग्राम पंचायत के मीणों का झोपड़ा विद्यालय की भूमि, गुढागोपालजी, गंभीरा, मीणों की झोंपडिय़ा, सुरली, जैतपुर, डोकून, देवरिया, चीता की झोपडिय़ा, कोरमा, धानुगांव व खानपुरा गांवों के चरागाह व सरकारी भूमियों से अतिक्रमण हटाने की मांग की।
खाद्य सुरक्षा पोर्टल चालू कराओ
भाजपा के पार्षदों ने जिला कलक्टर को खाद्य सुरक्षा पोर्टल का चालू करवाने की मांग की। उन्होंने बताया कि वचित पात्र परिवारों को खाद्य सुरक्षा का योजना का लाभ दिलवाने, नगरपालिका क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना में स्वीकृत होकर पात्र लोगों का चयन होने के बाद भी आवास निर्माण का लाभ नहीं मिल रहा। चयनित परिवारों को योजना लाभ दिलाये जाने, कस्बे के परकोटे के बाहर के वार्डो में पेयजल समस्या के स्थाई समाधान के लिए जलप्रदाय योजना की पाइपलाइन डाले जाने, कस्बे की विद्युत आपूर्ति की बिगड़ रही व्यवस्था में सुधार कराये जाने तालाबों की सफाई में बिना निविदा के बुलडोजर चलाये गए जिनका भुगतान रोके जाने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में शहर अध्यक्ष राजेन्द्रसिंह सोलंकी, पार्षद प्रमोदकुमार जैन, रजनीश शर्मा, मोजीराम गुर्जर, राजू चौधरी, दिलखुश पोटर, उम्मेद नागर, मोनू सैनी शामिल थे।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned