राजस्थान पत्रिका की मुहिम रंग लाई: नैनवां का भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय हुआ सरकारी

राज्य सरकार ने शनिवार को नैनवां के भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय को राजकीय किए जाने के आदेश जारी कर नैनवां क्षेत्र को एक साथ ईद व राखी का तोहफा प्रदान कर दिया।

By: Narendra Agarwal

Updated: 02 Aug 2020, 06:27 PM IST

नैनवां. राज्य सरकार ने शनिवार को नैनवां के भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय को राजकीय किए जाने के आदेश जारी कर नैनवां क्षेत्र को एक साथ ईद व राखी का तोहफा प्रदान कर दिया। आदेश जारी करने का निर्णय मुख्यमंत्री स्तर पर होने के बाद शनिवार को ईद का अवकाश होने के बाद भी कार्यालय खोलकर उच्च शिक्षा के सहायक शासन सचिव शशि माथुर ने आदेश जारी किया। शाम को आदेश आते ही नैनवां में हर्ष की लहर दौड़ गई। कस्बे के लोगों ने पटाखे चलाए व मिठाईयां बांटी। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपनी सरकार के पहले बजट में दस जुलाई 2019 को नैनवां कॉलेज के साथ राज्य आठ अन्य कॉलेजों को सरकारी करने की घोषणा तो कर दी थी लेकिन आदेश जारी करने में कुछ अड़चनों से सरकार एक वर्ष से आदेश जारी नही कर पाई थी। खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना का पूरा स्टाफ कॉलेज के सरकारी आदेश जारी करने आ रही अड़चनों को दूर कराने में जुटा रहा। एक वर्ष के अथक प्रयास के बाद शनिवार को कॉलेज सरकारी करने का आदेश जारी हो गया। उच्च शिक्षा विभाग के सहायक शासन सचिव शशि माथुर ने शनिवार को आदेश जारी कर नैनवां के भगवान आदिनाथ जयराज मारवाड़ा महाविद्यालय के साथ राज्य के आठ स्ववित्त व निजी महाविद्यालयों रावतभाटा के महाराणा प्रताप महाविद्यालय, बेगंू के शहीद रूपाजी कृपाजी महाविद्यालय, सोजतसिटी के आईमाता महाविद्यालय, छीपाबड़ौद के प्रेमसिंह महाविद्यालय, संगरिया के मीरा कन्या महाविद्यालय, करणपुर के ज्ञान ज्योति महाविद्यालय, रायसिंहनगर के शहीद भगतसिंह महाविद्यालय, भिवाड़ी के बाबा मोहनराम किसान महाविद्यालय को 23 जून 2020 को अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त की अध्यक्षता में आयोजित बैठक की कार्यवाही विवरणानुसार महाविद्यालयों को प्रशासनिक व वित्तिय स्वीकृति प्रदान की जाती है।

मैंने अपना वादा पूरा किया
कॉलेज को सरकारी कराने के प्रयास में जुटे खेल राज्यमंत्री अशोक चांदना ने कहा कि मैने भी वचन दिया था कि कॉलेज सरकारी कराऊंगा। मैने अपना वादा पूरा कर दिया। इस कॉलेज को सरकारी कराना किसी पहाड़ को तोडऩे के बराबर था। मंत्री होकर भी अधिकारियों की एक-एक टेबल पर घूमा। मेरा पूरा ऑफिस व सहायक प्रहलाद यादव कई दिनों तक इसी काम में लगा रहा। मुख्यमंत्री का आभारी हूं जिन्होनें नैनवां ही नही नैनवंा जैसे आठ अन्य कॉलेजों को भी सरकारी कर दिया। क्षेत्र के लोगों से किया मेरा वादा पूरा कर दिया। मुख्यमंत्री जी ने आदेश जारी करवाकर क्षेत्र के लोगों को एक साथ ईद व राखी का तोहफा प्रदान किया है।

आतिशबाजी की
नैनवां के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कॉलेज सरकारी होने की खुशी में बस स्टैण्ड पर नैननवां संयुक्त व्यापार महासंघ के अध्यक्ष विनोद मारवाड़ा, कोषाध्यक्ष अनिल मित्तल, बूंदी जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष आबिद अली, देवेन्द्रकुमार, सुरेश मोडिका, जगदीश गुर्जर, सुरेश कक्कड़, चन्द्रप्रकाश जैन, शहर अध्यक्ष भारतभूषण गौतम ने आतिशबाजी की और लोगों का मुह मिठा कराया।

फिर कांग्रेस सरकार ने ही किया सरकारी
कॉलेज की आवश्यकता को देखते हुए यहां 21जुलाई 2003 को स्ववित्तपोष्ी महाविद्यालय की स्थापना हुई थी। तीन वर्ष में सरकारी दर्जा देने के हिसाब से जिला कलक्टर ने भूमि आरक्षित की गई थी। दस वर्ष बाद 26 जुलाई 2013 को कांग्रेस सरकार ने राजयाधीन लेकर सरकारी कॉलेज घोषित कर दिया था, लेकिन उसी वर्ष प्रदेश में सरकार बदल गई। हिण्डोली सीट से कांग्रेस का विधायक चुना गया तो भाजपा ने सत्तासीन होते ही 26 सितम्बर 2014 को कॉलेज से सरकारी दर्जा छीनकर 18 दिसम्बर 2014 को विकास समिति के सुपर्द कर दिया था। तब से ही समिति कॉलेज का संचालन करती आ रही थी।

पत्रिका ने चलाई थी मुहिम
क्षेत्र के बच्चों के भविष्य की चिंता को देखते हुए राजस्थान पत्रिका ने कई माह तक मुहिम चलाकर कॉलेज को सरकारी कराने की मांग को जन आन्दोलन बना दिया था। पांच मई 2018 को मुहिम शुरु की थी जिसको क्षेत्र की आम जनता का खुलकर समर्थन मिला था। हर वर्ग के व्यक्ति इससे जुड़ गए थे। कॉलेज सरकारी होने तक भी पत्रिका की मुहिम जारी रही। खेल राज्य मंत्री ने इसे मुहिम की भी सफलता बताते हुए पत्रिका को धन्यवाद दिया।

Narendra Agarwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned