राजस्थान में यहां दिनभर शांतिपूर्ण बंद के बाद अब फूटा लोगों का रोष, प्रदर्शनकारियों और पुलिस में नोक-झोंक

राजस्थान में यहां दिनभर शांतिपूर्ण बंद के बाद अब फूटा लोगों का रोष, प्रदर्शनकारियों और पुलिस में नोक-झोंक

Nidhi Mishra | Publish: Sep, 06 2018 05:56:56 PM (IST) Bundi, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

बूंदी। एससी-एसटी एक्ट में संशोधन के विरोध में गुरुवार को दिनभर बाजार बंद रहने के बाद दोपहर को आक्रोशित लोगों ने कलक्ट्रेट में पहुंचकर जोरदार प्रदर्शन कर सरकार तक अपनी आवाज पहुंचाई। नगर परिषद के सामने स्थित नेहरु गार्डन से दोपहर बाद गैर राजनैतिक सामान्य पिछड़ा जागृति मंच के आव्हान पर रैली निकाली। शहर के प्रमुख माार्गों से होता हुए कलेक्ट्रेट पहुंची। रैली में शामिल लोग हाथों में तख्तियां लेते हुए सरकार विरोधी नारे लगाते हुए चल रहे थे। कलेक्ट्रेट में पहुंचने के बाद आक्रोशित लोग जिला कलक्टर को बहार बुलाने की मांग पर अड़ गए। इस दौरान प्रदर्शनकारियों की पुलिस के साथ नोक-झोंक भी हुई। फिर बाद में एक प्रतिनिधिमंडल जिला कलक्टर से मिला ओर प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।

 

दिनभर दिखा व्यापक असर
अब तक सामान्य वर्ग को राजनीतिक दल केवल चुनाव के दौरान ही याद करते थे। जब से एससी एसटी कानून में केंद्र सरकार ने संशोधन किया है वो गले की फांस बन गया है। इसका व्यापक स्तर पर असर भी दिखाई दिया। हालात यह बन गए कि अब सामान्य और पिछड़ा वर्ग इसके विरोध में सड़क पर उतर आया। इस निर्णय से अब केंद्र और प्रदेश सरकार के सामने 'न निगलते बन रहा और न उगलते' जैसे स्थिति निर्मित हो गई है।

 

 

इस वर्ग ने भी किया पूर्ण समर्थन


सुप्रीम कोर्ट के निर्देश को केंद्र सरकार द्वारा अध्यादेश के माध्यम से बदलने पर इसकी देशभर में व्यापक प्रतिक्रिया हो रही है। गुरुवार को काले कानून को लेकर भारत बंद का आह्वान किया गया। बूंदी जिले में भी बंद रखा गया। यहां तक कि दिहाड़ी मजदूरी करने पेट पालने वाले क्या चायवाला हो या गुमटी संचालक केंद्र सरकार द्वारा एससी एसटी एक्ट में किए बदलाव के विरोध में खड़ा दिखाई दिया। बंद पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा। कहीं से कोई अप्रिय स्थिति निर्मित होने की सूचना नहीं मिली।

 

करवर में एससी एसटी एक्ट के विरोध में बंद के दौरान बाजार सूना रहा। लोगों ने सड़कों पर उतर कर बंद के समर्थन में रैली निकाली।

 

चाय नाश्ते तक को तरस गए लोग
भारत बंद के समर्थन में जिले में बंद के दौरान लोग सुबह सुबह चाय नाश्ते तक को तरस गए। एक भी घुमटी या चाय नाश्ते की दुकान नहीं खुली। सर्व समाज की और से पूर्व में ही चेतावनी दे दी गई थी। पुलिस प्रशासन भी बंद के चलते पूरी तरह मुस्तैद दिखाई दिया। चप्पे चप्पे पर माकूल पुलिस बल तैनात रहा। पेट्रोल पम्प संचालकों ने भी बंद का समर्थन किया।

देई कसबे में गुरुवार को सवर्ण ओबीसी द्वारा बंद का आवाहन पर दुकानें स्वतः ही बंद रहीं। गठित संघर्ष समिति ने सुबह जुलुस निकाला और लोगों ने एक्ट को काळा कानून के समान बताया।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned