script71 thousand flown in the mobile game on the pretext of online studies | ऑनलाइन पढ़ाई के बहाने मोबाइल में पब्जी गेम खेल 71 हजार उड़ाए | Patrika News

ऑनलाइन पढ़ाई के बहाने मोबाइल में पब्जी गेम खेल 71 हजार उड़ाए

पुलिस ने बेटे को बनाया आरोपी - एसपी के पास पहुंची थी रुपए गायब होने की शिकायत

बुरहानपुर

Updated: September 08, 2020 03:16:29 pm

बुरहानपुर. पब्जी गेम का नशा एक छात्र पर ऐसा चढ़ा कि उनसे मोबाइल पर ऑनलाइन पढ़ाई करने के बहाने पिता के बैंक अकाउंट से 71 हजार रुपए उड़ा दिए। 5 माह के अंदर पेटीएम के जरिए 71 हजार रुपए गायब होने की शिकायत जनपद पंचायत के एक अधिकारी ने एसपी कार्यालय पहुंच कर की तो लालबाग पुलिस ने आइटी एक्ट का मामला दर्ज कर सायबर सेल की मदद से जांच कर मामले का खुलासा किया। पुलिस की जांच में फरियादी का बेटा ही आरोपी निकला।

ciber crime
ciber crime

पुलिस अधीक्षक राहुल लोढ़ा ने मामले का खुलासा करते बताया कि जनपद पंचायत बुरहानपुर में काम करने वाले एक अधिकारी ने 4 सितंबर को लालबाग थाने में अपने बैंक खातें से मार्च से लेकर अगस्त तक 5 माह में 71 हजार रुपए पेटीएम के जरिए गायब होने की शिकायत की थी। पुलिस ने धारा 379, 66 आइटी एक्ट का मामला दर्ज कर थाना प्रभारी गणपति नाका केपी धुर्वे को जांच अधिकारी बनाया गया था। ऑनलाइन पेटीएम से धोखाधड़ी का मामला गंभीर होने पर पुलिस ने सायबर टीम के साथ मामले की जांच की तो फरियादी का बेटा ही आरोपी निकला। बेटा पब्जी गेम खेलने का आदि होने से अपने दोस्तों को घर पर बुलाकर पब्जी गेम खेलता था। मोबाइल से ही अपने पिता के डेबिट कार्ड का उपयोग कर पेटीएम ऐप के जरिए पब्जी गेम में पैसा ट्रांसफर कर लेता था। पिता के मोबाइल मे आने वाली ओटीपी एसएमएम सहित अन्य मैसेज डिलिट भी कर देता था। इसी प्रकार 5 माह में कुल 71 हजार रुपए नाबालिक बेटे द्वारा गेम में उड़ा दिए गए।

ऑनलाइन पढ़ाई के बहाने खेलता था गेम
मार्च में स्कूल बंद होने के बाद मोबाइल पर ऑनलाइन पढ़ाई शुरू हो गई। 9वीं कक्षा का छात्र अपने पिता से मोबाइल पर ऑनलाइन पढ़ाई करने बहाने मोबाइल लेता और दोस्तों के साथ बैठकर गेम खेलता था। पब्जी गेम को अपग्रेड करने और अननॉन कैप्स सहित अन्य एप्लीकेशन को खोलने के लिए 1 हजार से लेकर 3 हजार रुपए तक खर्च कर देता। यह सभी रुपए पिता के पेटीएम के जरिए गेम में ट्रांसफर होते थे। रुपए गायब होने के बाद बैंक स्टेटमेंट निकाला तो 71 हजार रुपए गायब मिले। पुलिस में शिकायत करने के बाद पूरा खुलासा हुआ। पुलिस टीम में गणपति थाना प्रभारी केपी धुर्वे, सायबर सेल प्रभारी विक्रमसिंह बामनिया, एएसआइ दिलीप सिंह, प्रधान आरक्षक तारक अली, दुर्गेश पटेल का सहयोग रहा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

14 अगस्त को 'विभाजन विभिषिका स्मृति दिवस' मनाने पर कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- नफरत फैलाने के लिए त्रासदी का दुरुपयोगइसलिए नाम के पीछे झुनझुनवाला लगाते थे Rakesh Jhunjhunwala, अकूत दौलत के बावजूद अधूरी रह गई एक ख्वाहिशRakesh Jhunjhunwala Net Worth: परिवार के लिए इतने पैसे छोड़ गए राकेश झुनझुनवाला, एक दिन में कमाए थे 1061 करोड़पिता ने नहीं दिए पैसे, फिर भी मात्र 5000 के निवेश से कैसे शेयर बाजार के किंग बने राकेश झुनझुनवालासिर पर टोपी, हाथों में तिरंगा; आजादी का जश्न मनाते दर्जनों मुस्लिम बच्चों का ये वीडियो कहां का है और क्यों वायरल हो रहा है?Rakesh Jhunjhunwala Faith in Sati Dadi Temple: झुंझुनूं की राणी सती दादी मंदिर में थी राकेश झुनझुनवाला की गहरी आस्था'आजादी के अमृत महोत्सव' के तहत भारत-पाकिस्तान सीमावर्ती 30 गांवों के विकास के लिए शुरू हुई अनूठी पहलRajasthan: तीसरी कक्षा के दलित छात्र को निजी स्कूल के शिक्षक ने पानी का कंटेनर छूने को लेकर पीटा, मौत के बाद तनाव, इंटरनेट सेवा बंद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.