script नाले की जमीनों पर मिला कब्जा | Got possession of drain lands | Patrika News

नाले की जमीनों पर मिला कब्जा

locationबुरहानपुरPublished: Feb 03, 2024 12:15:01 pm

Submitted by:

ranjeet pardeshi

निरीक्षण
- एसडीआरएफ मद से खर्च होगी राशि
- नालों का मौके पर देखा नक्शा

Got possession of drain lands
Got possession of drain lands
बुरहानपुर. शहर के प्रमुख चौराहों पर बारिश के समय होने वाली जलभराव की स्थिति को खत्म करने के लिए निगम अफसरों की टीम ने बड़े नालों पर पहुंचकर निरीक्षण किया। एसडीआरएफ मद से 14 करोड़ की लागत से 4 बड़े नालों को कवर किया जा रहा है।यहां पर निर्माण में परेशानियां आ रही है वहां पर अतिरिक्त पाइप लाइन डालकर पानी निकासी की व्यवस्था की जाएगी।
शुक्रवार को निगम आयुक्त संदीप श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री प्रेम साहू ने इंजीनियरों की टीम के साथ पहुंचकर शनवारा चौराहे के नाले की पानी निकासी की व्यवस्था देखी। नाले के ऊपर लीज पर दी गई भूमि पर निर्माण और नाले के आसपास पक्का निर्माण होने पर समस्या आ रही है। अफसरों ने आसपास क्षेत्र का मौका निरीक्षण करते हुए शनवारा चौराहे पर जलभराव की स्थिति न हो इसलिए नाले की सफाई करने के साथ हाइवे किनारे से 1800 एमएम की अतिरिक्त पाइप लाइन निकाल कर बस स्टैंड के पास नाले में जोडऩे की कार्ययोजना तैयार की। बड़े नाले के साथ ही अतिरिक्त पाइप लाइन से भी पानी की निकासी होने से जलभराव नहीं होगा।
इन नालों का होगा गहरीकरण, निर्माण कार्य
एसडीआरएफ मद की राशि से निगम द्वारा शहर के तीन बड़े नाले कड़वीसा नाला, सिंधीपुरा और शनवारा नाले को शामिल किया गया है। यहां पर लगभग 12 से 14 करोड़ रुपए की लागत से गहरीकरण करने के साथ नए निर्माण कार्य किए जाएंगे। जिससे वार्डाे के अंदर भी होने वाले जलभराव की समस्या खत्म होगी। कड़वीसा नाले पर कुछ कार्य अभी अधूरा है, अन्य क्षेत्रों का सीमांकन करने के बाद यहां पर एजेंसी से कार्य शुरू कराया जा रहा है।
नालों पर कब्जा, अंडरग्राउंड में कचर के ढेर
शहर में लंबे समय से पुराने नालों का निर्माण नहीं होने से नालों की जमीनों पर कब्जा हो गया। निगम ने ही कुछ बड़े नाले शनवारा, बस स्टैंड, कोतवाली मंडी बाजार के नाले की भूमि को लीज पर दे दी, जिससे यहां पर पक्के निर्माण होने से अब परेशानियां आ रही है। क्योकि अंडरग्राउंड नालों पर गंदगी एवं कचरे के ढेर जमा होने से पानी निकासी में समस्या आ रही है। नालों की गहराई अधिक होने से कई बार कर्मचारियों को सफाई के लिए उतारना भी खतरे से खाली नहीं है।
शहर में 32 जगहों पर होता है जलभराव
शहरी क्षेत्र में 32 ऐसे स्थानों को चिन्हित किया है, जहां पर बारिश के समय जल भराव की स्थिति बनती है। छोटे एवं बड़े नाले वाले अधिकांश क्षेत्र शामिल है। पहले चरण में तीन नालों का निर्माण होने के बाद अन्य क्षेत्र को शामिल किया जाएगा। जिसमें कमल टॉकिज से राजपुरा गेट तक नाला, कडवीसा नाला बोरवाड़ी से शिकारपुरा तक, पंचमुखी हनुमान मंदिर के पास शिकारपुरा, शिव प्लाजा कॉम्पलेक्स, बुधवारा रोड से लोहार मंडी गेट के पास का नाला, सिंधीपुरा गेट से लोहार मंडी गेट तक, पाला, खैराती बाजार, आलमगंज मालीवाड़ा, गुलाबगंज का नाला, लालबाग नाला, शनवारा गेट के पास, इंदिरा कॉलोनी की नालियां, गुलमोहर मार्केट नाला, इतवारा गेट व न्यामतपुरा बस स्टैंड, चमेली कुंआ नाला शामिल है।
- शनवारा चौराहे पर जलभराव की स्थिति को खत्म करने के लिए 1800 एमएम की पाइप लाइन डालकर पानी निकासी की जाएगी। नालों के नए निर्माण को लेकर मौका निरीक्षण कर रहे है।
संदीप श्रीवास्तव, आयुक्त ननि,बुरहानपुर

ट्रेंडिंग वीडियो