चिंता में पालक : स्कूल खुलने के आदेश, बच्चों पर वायरल फीवल का कहर

अस्पताल का शिशु वार्ड फुल, एक बेड़ पर दो बच्चों का इलाज
- 8 से 10 बच्चों प्रतिदिन हो रहे भर्ती
- अस्पताल प्रबंधन नहीं हो रहा गंभीर

By: ranjeet pardeshi

Published: 16 Sep 2021, 12:16 PM IST

बुरहानपुर. सरकार ने 20 सितंबर से पहली से पांचवीं तक स्कूल खोलने के आदेश दे दिए, लेकिन वर्तमान हालात देखकर परिजनों में घबराहट का भी माहौल है। वायरल फीवर चलने से अस्पताल में बेड फुल है। जिला अस्पताल के शिशु वार्ड की स्थिति इतनी दयनीय है कि यहां पर इलाज तो दूर भर्ती करने के लिए पर्याप्त बेड़ नहीं हैं। एक बेड़ पर दो-दो बच्चों को लिटाकर इलाज किया जा रहा है। ऐसे में बच्चों के परिजनों में कोरोना की तीसरी लहर से बच्चों में संक्रमण का डर बना हुआ है। हालांकि प्री प्रायमरी की कक्षाएं अभी नहीं खुलेगी, इससे छोटे बच्चों के लिए राहत है।
जिला अस्पताल शिशु रोग विशेषज्ञ डॉक्टर भूपेंद्र गौर ने बताया कि बच्चों में वायरल बुखार का असर देखने को मिल रहा है। सर्दी-खांसी, तेज बुखार होने के साथ ही छोटे बच्चों में सांस लेने में तकलीफ जैसी शिकायतें मिल रही है। पहले अस्पताल के शिशु वार्ड में प्रतिदिन 5 बच्चें भर्ती होते थे, यह आंकड़ा अब लगभग 10 तक पहुंच गया है। इधर शहर के निजी नर्सिंग होम में बीमार बच्चों की भीड़ देखी जा रही है।
बेड़ फुल, पीआइसीयू भी अधूरा
बच्चों में वायरल बुखार, उल्टी दस्त सहित डेंगू संभावित होने पर परिजन इलाज के लिए जिला अस्पताल तो पहुंच रहे हैं, लेकिन प्रबंधन की तरफ से अतिरिक्त कोई व्यवस्था नहीं की जा रही है। ऐसे में बच्चों को भर्ती करने के लिए बेड़ ही खाली नहीं हैं। अस्पताल प्रबंधन गैर जिम्मेदाराना रवैया अपनाते हुए एक बेड़ पर दो बच्चों को लिटाकर बोतल और इंजेक्शन लगा रहा है। जबकि पीआइसीयू का काम भी कछुआ चाल से होने से दीवारें ही खड़ी हुई है। अस्पताल के पास संसाधन ही कम पड़ रहे है।

बॉक्स
क्या कहते है शिशु रोग विशेषज्ञ
डॉक्टर सैयद नदीम ने कहा कि शहर में वायरल के चलते बच्चों की संख्या बढ़ी है, लेकिन बच्चों का कोविड टेस्ट निगेटिव आ रहा है, पालकों को बच्चों पर विशेष ध्यान देने की सलाह दी जा रही है। बच्चों में डेंगू के लक्षण भी मिलने पर रिपोर्ट कराइ जा रही है तो कुछ पॉजिटिव आ रही है। पालकों को सलाह है कि बच्चों की देखभाल करें, बाहर का भोजन नहीं खिलाएं। सर्दी, जुखाम होने पर मास्क पहनाकर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखे। फिलहाल अभी वायरल ही चल रहा है कोविड नहीं आया है। बारिश के समय घर के आसपास पानी जमाव नहीं होने दे क्योंकि साफ पानी के मच्छर से ही डेंगू फैलता है। बच्चें को सर्दी, खांसी और बुखार होने पर डॉक्टर से चेकअप कराए।

- वायरल फीवर होने से बच्चों की संख्या बढ़ी है, शिशु वार्ड में 20 बेड़ पर 40 बच्चे भर्ती है, शासन से अतिरिक्त बेड़ की मांग की गई है, बेड़ मिलने पर लगाएंगे।
डॉक्टर शकील अहमद, सिविल सर्जन बुरहानपुर

ranjeet pardeshi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned