बुरहानपुर : शाहपुर नगर परिषद में लेखापाल और भृत्य को 15 हजार की रिश्वत लेते पकड़ा

बुरहानपुर : शाहपुर नगर परिषद में लेखापाल और भृत्य को 15 हजार की रिश्वत लेते पकड़ा

ranjeet pardeshi | Publish: Dec, 07 2017 07:16:13 PM (IST) | Updated: Dec, 07 2017 08:30:56 PM (IST) Burhanpur, Madhya Pradesh, India

- नगर परिषद शाहपुर का मामला

बुरहानपुर. शाहपुर नगर परिषद के मुख्य लेखापाल और भृत्य को 15 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है। लेखापाल द्वारा खंडवा की सैफी इंजीनियरिंग कंपनी के सीईओ से ५ लाख ३५ हजार रुपए का बिल निकालने के नाम पर रिश्वत मांगी थी।
लोकायुक्त पुलिस के डीएसपी प्रवीणसिंह बघेल ने बताया कि शाहपुर नगर में १ किमी तक बिजली की एलटी लाइन का काम खंडवा की सैफी इंजीनियरिंग कंपनी ने किया था। इसका बिल ५ लाख ३५ हजार रुपए बना था। तीन माह से लेखापाल शेख इसहाक २० प्रतिशत की रिश्वत मांग रहा था। पहली किस्त के रूप में १५ हजार रुपए देने पर सहमति बनी। कंपनी के सीईओ सुरेश कुमार अग्रवाल ने रुपए देने से पहले लोकायुक्त में शिकायत कर दी। गुरुवार दोपहर ४ बजे नगर परिषद के कार्यालय में ही जब अग्रवाल पहुंचे तो लेखापाल इसहाक ने कहा कि पांच हजार भृत्य राजेश भारती के रहेंगे और १० हजार मेरे। अग्रवाल इस बात पर राजी हुए और लेखापाल ने रुपए भृत्य के हाथ में देने के लिए कहा। इसी दौरान परिषद के कार्यालय में लोकायुक्त ने धरदबोचा। पांच घंटे तक इनके विरुद्ध कार्रवाई की गई।
सप्ताहभर पहले ही पकड़ाई लिपिक
एक सप्ताह पहले ही लोकायुक्त पुलसि ने नेपानगर में महिला एवं बाल विकास विभाग की लिपिक ज्योति बागुल को ढाई हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ा है। इस कार्रवाई के बाद भी रिश्वतखोरों ने सबक नहीं लिया।
यह लगाई धारा
लोकायुक्त पुलिस के डीएसपी प्रवीणसिंह बघेल ने बताया कि मुख्य लेखापाल शेख इसहाक और भृत्य राजेश भारती के विरुद्ध भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 7-13 1डी, 13-12, आईपीसी की धारा 120 बी के तहत कार्रवाई की गई है। इस कार्रवाई के बाद अब लेखापाल और भृत्य को सस्पेंड कर दिया जाएगा। इसके बाद आगे की कार्रवाई चलेगी।
रिश्वत मांगे तो करें शिकायत
अगर शासकीय विभाग में कोई रिश्वत की मांग कर रहा हैं, तो आप भी लोकायुक्त में शिकायत कर सकते हैं। डीएसपी प्रवीणसिंह बघेल के मोबाइल नंबर 7000899809 पर की जा सकती है।

Shahpur Municipal Council caught accountant and bribe taking bribe of
Jeetu Arora IMAGE CREDIT: Patrika

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned