नोएडाः एनसीआर में सबसे पसंदीदा आवासीय जगह

नोएडाः एनसीआर में सबसे पसंदीदा आवासीय जगह

क्या नोएडा क्षेत्र में आर्थिक संभावनाएं व नए नियम रियल एस्टेट सेक्टर को पुनर्जिवित कर सकते हैं? हम इस बात के बारे में पता लगा रहे हैं

नई दिल्ली। क्या नोएडा क्षेत्र में आर्थिक संभावनाएं व नए नियम रियल एस्टेट सेक्टर को पुनर्जिवित कर सकते हैं? हम इस बात के बारे में पता लगा रहे हैं कि एनसीआर और दूसरे शहरों के मुकाबले नोएडा में क्या संभावनाएं हैं। गोल्फ लिंक में एक आलीशान विला हर किसी का सपना है लेकिन हर कोई इसे वास्तविकता में नहीं बदल सकता है। सपनों को पूरा करने के लिए आपको वास्तविकता में जीना होगा। आज दिल्ली का अधिकतर मध्यमवर्गीय परिवार खुद के घर का सपना पूरा करने के लिए एनसीआर की ओर भाग रहा है। चाहें वो गुड़गावं, द्वारका, नोएडा या ग्रेटर नोएडा हो।इस साल के शुरुआत में एनारौक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, एनसीआर में करीब 2.8 करोड़ लोग रहते हैं और बीते कुछ सालों में किफायती आवासीय सेगमेंट में यहां सबसे अधिक विस्तार देखने को मिला है। इसमें करीब 26 से 30 फीसदी की कुल तेजी देखी गई है।

ये है लोगों की सबसे पसंदीदा जगह

इन क्षेत्रों में सबसे पसंदीदा जगह गुड़गांव में सोहना रोड, गाजियाबाद में राजनगर एक्सटेंशन, यमुना एक्सप्रेसवे और पश्चिमी ग्रेटर नोएडा व भिवाड़ी है। एटीएस समूह होमक्राफ्ट सीईओ प्रसुन चौहान का मानना है कि मध्यम वर्गीय परिवारों को खुद के घर का सपना पूरा करने के लिए नोएडा सबसे उचित जगह है। हाल ही में एक वेबसाइट से अपने बातचीत में चौहान ने कहा, ‘‘नोएडा में किफायती व मिड-इकनम मकानों का बहुत स्कोप है और बहुराष्ट्रीय कंपनियां भी नोएडा व ग्रेटर नोएडा में तेजी से बढ़ रही हैं। आने वाले दिनों में नोएडा में नौकरियों के अवसर बढ़ने वाले हैं और ऐसे में किफायती मकानों की मांग भी बढ़ेगी।’’दिल्ली एनसीआर में सबसे बड़े रियल एस्टेट डेवलपर्स में से एक एटीएस समूह इस साल के शुरुआती तीन महीनों में 1,000 करोड़ से भी अधिक की बिक्री दर्ज कर चुका है। एटीएस व उसकी किफायती हाउसिंग कंपनी होमक्राफ्ट नोएडा, गुडगांव, मोहाली व चंडीगढ़ में करीब 975 से भी अधिक प्रोजेक्ट की बिक्री कर चुके हैं।

अप्रैल में ग्रेटर नोएडा में लॉन्च हुआ पहला प्रोजेक्ट

होमक्राफ्ट ने इस साल अप्रैल माह में पश्चिमी ग्रेटर नोएडा में अपने पहले प्रोजेक्ट को लॉन्च किया है। कंपनी इस प्रोजेक्ट के लिए 500 करोड़ खर्च करने वाली है। कंपनी यह खर्च डेट, इंटरनल एक्रुअल व खरीदारों से मिले एडवांस से फंड करेगी। मिड सेग्मेंट को ध्यान में रखते हुए प्रोजेक्ट ‘हैप्पी ट्रेल्स’ साल 2022 तक पूरा हो जाएगा। होमक्राफ्ट का यह नवीन प्रोजेक्ट है।नोएडा एक्सटेंशन का निर्माण नोएडा व ग्रेटर नोएडा की तुलना में किफायती बाजार के तौर पर हुआ था, लेकिन इसे उप-शहर के तौर पर कभी नहीं देखा गया। अब इस क्षेत्र में नए प्रोजेक्ट्स आ रहे हैं जो किफायती होने के साथ-साथ प्रीमियम भी है।

तीन तिमाहियों में 50,000 फ्लैट्स होंगे तैयार

हवेलिया ग्रुप के प्रबंध निदेशक, निखिल हवेलिया का मानना है कि पश्चिमी ग्रेटर नोएडा में अगले तीन तिमाहियों में करीब 50,000 फ्लैट्स तैयार हो जाएंगे। हवेलिया का यह भी मानना है कि यह लोवर व मिडिल इनकम वाले लोगों के लिए एक नया विकल्प होगा। इस क्षेत्र में अधिकतर अपार्टमेंट 700 से 1500 वर्गफुट के हैं। जबकि पास के दूसरे सेक्टर्स में 1200 से 2500 वर्गफुट फ्लैट्स आसानी से उपलब्ध हैं।कुछ समय पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व कोरियन राष्ट्रपति मून जे-इन ने नोएडा के सेक्टर 81 में सैमसंग की सबसे बड़ी मैन्युफैक्चरिंग हब का उद्रघाटन किया है। सैमसंग की मौजूदगी से कार्बन, ओप्पो, लावा व इंटेक्स जैसे दूसरी मोबाइल कंपनियों के लिए भी यहां भरपूर मौका है।

बढ़ रही है घरों की मांग

उत्तर प्रदेश सरकार ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा व यमुना एक्सप्रेसवे को मोबाइल इंडस्ट्री क्षेत्र के रूप में चिन्हित किया है। इससे नोएडा व ग्रेटर नोएडा में आवासियों घरों की मांग में बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली से बेहतर कनेक्टिविटी भी इसका एक कारण है जिससे मोबाइल कंपनियों के लिए नोएडा पंसद बनता जा रहा है। यह और भी सुगम हो जाएगा जब नोएडा-ग्रेटर नोएडा के बीच 30 किलोमीटर का एक्वा मेट्रो लाइन चालू हो जाएगी। यह सेक्टर 81 से होकर निकलेगा जिससे ट्रैवल टाइम में भी बचत होगा। इस मेट्रो लाइन में नोएडा के सेक्टर 78, 79, 101, 107, 104, 80 व 81 पड़ेगा जहां 20 लाख में 2 BHK किफायती फलैट आसानी से उपलब्ध हैं।

ये है निवेश के लिए सबसे उचित

त्योहारी सीजन में एनसीआर में आवासीय रियल एस्टेट में निवेश के लिए सबसे उचित समय बनता जा रहा है, खासतौर पर नोएडा क्षेत्र। क्रेडाई के चेयरमैन व एटीएस सीएमडी, गीतांबर आनंद का कहना है कि अचल संपत्ति क्षेत्र में साल 2018 की वृद्धि आने पर अपने अधिकारों की रक्षा के लिए एआरआई अधिनियम के साथ खरीदारों के आत्मविश्वास की वापसी के रूप में देखा जा सकता है।रियल एस्टेट डेवलपर्स अब आसान पेमेंट स्कीम जैसे एक्सटेंडेड डिस्काउंट, फुली पैक्ड फ्लैट्स, और मर्सीडीज बेंच व दूसरी कारों, सोने के सिक्के, आईफोन आदि जैसे विकल्पों की पेशकश कर रहे हैं। डेवलपर्स खासतौर पर यह विकल्प त्योहारी सीजन को ध्यान में रखकर दे रहे हैं। महागुन व सिक्का ग्रुप जैसे फम्र्स रेडी-टू-मूव इन्वेंटरी में 25 फीसदी तक की छूट भी दे रहे हैं। वहीं गौर संस, सुपरटेक, अंतरिक्ष, साया, , मिगसन व एक्जॉटिका जैसी कंपनियां फ्री कार पार्किंग, क्लब मेंबरशिप, लीज रेन्ट, फ्री मॉडुल किचन व बेडरूम में वार्डरॉब जैसे ऑफर्स की पेशकश कर रही हैं।कुल मिलाकर इस सेक्टर में निवेश का यह सबसे उचित समय है। आप अपने सपनों के घर को उसी प्राइस रेंज में पा सकते हैं जितना आप खर्च कर सकते हैं। सपना हकीकत बन सकता है, बस इसके लिए थोड़ी मेहनत की जरूरत होती है।

 

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned