Tata Vs Ambani: अंबानी को पीछे छोड़ टाटा बना भारत का सबसे अमीर कारोबारी ग्रुप

  • टाटा ग्रुप भारत का सबसे अमीर ग्रुप बन गया है
  • मुकेश अंबानी दूसरे और अनिल चौथे नंबर पर हैं

By: Pratibha Tripathi

Published: 14 Jan 2021, 10:49 PM IST

नई दिल्ली- Tata और Ambani ये देश के दो औद्योगिक घराने ऐसे हैं जिनके बीच बादशाहत की होड़ मची रहती है। मुकेश अंबानी की कंपनी RIL का मार्केट कैप (Market Cap) कभी Tata Group से ज्यादा हो जाता है तो कभी Tata Group से पिछड़ जाता है। अगर बीते साल की बात करें तो जुलाई 2020 में रिलांयस ग्रुप ने टाटा ग्रुप को पीछे धकेलते हुए टॉप कारोबारी घराना बन गया था। लेकिन महज 6 महीने के अंतराल में टाटा ग्रुप ने फिर से बादशाहत छीन ली।

Tata Group ने फिर से कायम की बादशाहत

अपनी विश्वसनीयता और प्रोडक्ट को लेकर लोगों के बीच भरोसा कायम करने की वजह से नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक बनाने वाली कंपनी Tata Group जिसकी अग्रणी कंपनी TCS के शानदार प्रदर्शन के बूते टाटा के मार्केट कैप में उछाल आई तो एक बार फिर टाटा देश का सबसे बड़ा बिजनेस घराना बन गया है। और मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस ग्रुप जो मार्केट वैल्यू के लिहाज से पहले पायदान पर था वह लुड़क कर मौजूदा दौर में तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। टाटा के बाद दूसरे पायदान पर HDFC ग्रुप ने कब्जा जमा लिया है। अगर सभी कंपनियों के मार्केट कैप की बात करें तो टाटा ग्रुप की जितनी भी कंपनियां है उनका मार्केट कैप 17 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है, दूसरे पायदान का HDFC Group करीब 2 लाख करोड़ रुपये पुंच गया है। HDFC Group का मार्केट कैप 15.25 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है।

सालभर में 42 परसेंट का इजाफा हुआ Tata Group के मार्केट कैप में

Tata Group की सभी कंपनियों ने बीते एक साल में शानदार प्रदर्शन किया है, एक साल के भीतर इस ग्रुप का मार्केट कैप 42 परसेंट से ज्यादा का छलांग लगाया है। और सबसे बड़ी बात तो यह हा कि इस ग्रुप का मार्केट कैप केवल एक महीने में 13 परसेंट बढ़ा है, अगर वृद्धि दर को देखें तो एक महीने में टाटा ग्रुप का मार्केट कैप 1.9 लाख करोड़ हुआ है। दूसरी ओर मुकाबले मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस ग्रुप का मार्केट कैप 27 परसेंट बढ़ा तो HDFC Group सिर्फ 11 परसेंट की बढ़त दर्ज कर पाया है।

जुलाई 2020 में रिलांयस ने लगाई थी नंबर-1 की छलांग

जुलाई 2020 के छमाही रिपोर्ट को देखें तो Tata Group की 17 लिस्टेड कंपनियों (listed companies) का कुल मार्केट कैप 11.32 लाख करोड़ था। दूसरी ओर रिलायंस इंडस्ट्रीज़ (Reliance Industries) का मार्केट कैप 13 लाख करोड़ के पार हो गया था, उस समय रिलांयस ग्रुप टाटा ग्रुप को पछाड़ते गुए देश का नंबर-1 ग्रुप बन गया था।

TCS ने मचाया धमाल

टाटा ग्रुप की अग्रणी कंपनी TCS, टाटा मोटर्स और टाटा स्टील ने इस दौरान कमाल का परफॉर्मेंस दिखाया जिससे टाटा ग्रुप का मार्केट कैप 16.69 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया जो रिलायंस ग्रुप से 36% ज्यादा है। TCS के मज़बूत शेयरों के दम पर ये उछाल देखने को मिला और कंपनी ने कोरोना महामारी के दौर में कई बड़े सौदे किए, दूसरी ओर स्टील के दाम में उछाल आई जिससे टाटा ग्रुप को जबरदस्त फायदा हुआ। टाटा मोटर्स के शेयर में भी जुलाई के बाद 100% से ज्यादा का उछाल आया। दूसरी ओर रिलायंस को Jio ने बड़ी उछाल दी फेसबुक, गूगल जैसी ग्लोबल कंपनियों ने रिलायंस में निवेश किया, इसका फायदा रिलायंस को मिला तो ज़रूर मगर Aramco डील विवाद ने निवेशकों का मूड बिगाड़ दिया जिसका असर यह हुआ कि रिलायंस ग्रुप के शेयर सितंबर के बाद 22% तक लढक गया।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned