पेट्रोल-डीजल पर वैट घटाने से इनकार के बाद पंजाब सरकार का स्टाम्प ड्यूटी दरें बढाने का फैसला

केबिनेट के फैसले के बाद एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि स्टाम्प ड्यूटी दरें बढाने से राजस्व प्राप्ति बढेगी...

Prateek Saini

October, 1707:53 PM

(चंडीगढ): पंजाब सरकार ने हाल में अपनी वित्तीय खस्ताहाली का हवाला देते हुए जहां पेट्रोल और डीजल पर वैट घटाने से इनकार किया था। वहीं बुधवार को कैबिनेट ने स्टाम्प ड्यूटी दरें बढाने का फैसला कर लिया। इसके लिए भारतीय स्टाम्प अघिनियम 1899 में संशोधन के लिए एक अध्यादेश को मंजूरी दी गई है। इस संशोधन के बाद 17 कार्यों के लिए स्टाम्प ड्यूटी दरें लगभग दोगुनी हो जायेंगी। केबिनेट के फैसले के बाद एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि स्टाम्प ड्यूटी दरें बढाने से राजस्व प्राप्ति बढेगी।

 

मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में इस पहलू पर विचार किया गया कि पंजाब में संशोधन के बाद स्टाम्प ड्यूटी दरें पडौसी राज्य हरियाणा के मुकाबले अधिक हो जायेंगी लेकिन राज्य को जरूरी राजस्व जुटाने के लिए यह जरूरी था। स्टाम्प ड्यूटी दरें बढने से मौजूदा 50 करोड राजस्व बढकर 100 से 150 करोड रूपए तक पहुंच जाएगा। इससे पहले वर्ष 2009 में स्टाम्प ड्यूटी दरों में संशोधन किया गया था।

 

केबिनेट की मंजूरी के बाद अध्यादेश को अंतिम रूप देने के लिए विधि एवं प्रशासनिक विभाग को भेजा जाएगा और इसके बाद राज्यपाल को मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। केन्द्र सरकार द्वारा हाल में डीजल और पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी घटाए जाने के बाद जहां भाजपा शासित राज्यों ने भी अपने वैट में कटौती की थी। इसके साथ ही कांग्रेस शासित पंजाब पर भी दवाब था कि वह पेट्रोल-डीजल पर वैट में कटौती करे। लेकिन मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने अधिकारियों के साथ मंथन के बाद ऐलान किया कि पेट्रोल-डीजल पर वैट नहीं घटाया जाएगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned