स्टालिन ने तमिलनाडु विधानसभा में 3 कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पेश किया

स्टालिन ने कहा कि तीन कृषि कानून किसानों के खिलाफ हैं और कृषि को नष्ट कर देंगे।

By: PURUSHOTTAM REDDY

Published: 28 Aug 2021, 05:24 PM IST

चेन्नई.

मुख्यमंत्री एमके. स्टालिन ने शनिवार को विधानसभा में एक प्रस्ताव पेश कर केंद्र सरकार से तीन कृषि कानूनों को रद्द करने का अनुरोध किया क्योंकि वे किसानों के हितों को प्रभावित कर रहे हैं। विधानसभा में प्रस्ताव पेश करते हुए स्टालिन ने कहा कि तीन कृषि कानून किसानों के खिलाफ हैं और कृषि को नष्ट कर देंगे। उन्होंने कहा कि कृषि कानून किसानों के लिए किसी काम के नहीं हैं और संघवाद के सिद्धांत और राज्यों की शक्तियों को छीनने के भी खिलाफ हैं।

स्टालिन ने कहा कि पूर्ववर्ती अन्नाद्रमुक सरकार ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं लाई थी। तीन कानून: किसान उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा अधिनियम, और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम है। उनके अनुसार, किसान अगस्त 2020 से तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं।

तीन कानून कॉरपोरेट्स के लिए फायदेमंद हैं न कि किसानों के लिए। किसानों को उनकी उपज के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानून चुप हैं। सरकार ने इस साल कृषि के लिए अलग बजट पेश किया है। इस कदम का विरोध करते हुए भाजपा सदस्यों ने सदन से बहिर्गमन किया।

PURUSHOTTAM REDDY
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned