मुन्नानी नेता की हत्या, पांच लोगों के मकानों पर छापे

मुन्नानी नेता की हत्या, पांच लोगों के मकानों पर छापे

Arvind Mohan Sharma | Publish: May, 10 2018 01:05:49 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

आरोपी से सम्पर्क रखने वाले लोगों के छापे

कोय म्बत्तूर. मुन्नानी नेता सी शशिकुमार की हत्या की जांच कर रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारियों ने हत्या के आरोपी से सम्पर्क रखनेवाले पांच लोगों के मकान पर छापे मारे।सेल्वापुरम स्थित फबीन रहमान, वेल्लाकिनरू स्थित मोह मद अली, तुडियलूर स्थित सद्दाम हुसैन, सुगनापुरम स्थित हैदर अली व जीएम नगर स्थित हनीस के मकान पर छापे के दौरान मोबाइल फोन सहित कुछ इलेक्ट्रानिक उपकरण जब्त किएगए हैं। इनमें से सभी ने हत्या के आरोपी से कई बार बात की थी।तड़के चार बजे शुरू हुई कार्रवाई में अधिकारियों ने घर में मौजूद दस्तावेजों को खंगाला और इस बात की भी जांच की कि क्या इनके प्रतिबंधित संगठनों से कोई स बंध हैं। हत्या के आरोपी से इनके स पर्कों की भी जांच की गई। बताया जाता है जांच के दौरान अधिकारी इनमें से एक आरोपी को सुलूर के निकट एक वर्कशाप में ले गएजहां वह काम करता है। मालूम हो कि मुन्नानी नेता शशिकुमार की सित बर, 2016 में तुडियलूर में घर लौटते समय हत्या कर दी गई थी। हत्या के आरोप में पुलिस अभी तक चार लोगों को गिर तार कर चुकी है। इनमें से दो जमानत पर रिहा हो चुके हैं जबकि दो को सेलम के केन्द्रीय कारागार में रखा गया है।इनमें से फबीन रहमान ने पिछले सप्ताह पुलिस आयुक्त को एक ज्ञापन देकर आरोप लगाया था कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी के अधिकारी जांच के नाम पर उसे और उसके परिवार को मानसिक रूप से प्रताडि़त कर रहे हैं और बयान देने के लिए दबाव बना रहे हैं।

 

मामले के गहन जांच की मांग
कोय बत्तूर. तिरुचनगोड की पूर्व उप पुलिस अधीक्षक आर विष्णुप्रिया के पिता एम रवि न्यायालय में उपस्थित हुए और उन्होंने विष्णुप्रिया की हत्या के मामले की जांच को बंद किए जाने का विरोध करते हुए गहन जांच की मांग की। मामले की जांच कर रही सीबीआई की ओर से यह दावा करते हुए कि पुलिस अधिकारी की आत्महत्या के मामले में किसी भी संदेह की पुष्टि करने वाले साक्ष्य नहीं हैं, मामले की जांच बंद करने की रिपोर्ट फाइल की गई थी। इसके बाद न्यायालय ने उनकी राय जानने के लिए उन्हें बुलाया था।कहा जाता है कि विष्णुप्रिया ने सित बर, 2015 में आधिकारिक निवास में आत्महत्या कर ली थी। आत्महत्या का कारण काम का दबाव बताया गया था। रवि ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि हमने मामले की जांच बंद करने पर आपत्ति जताई है। मामले की अगली सुनवाई 24 मई को तय की गई है। उसी दिन आपत्ति रिपोर्ट दाखिल करेंगे। सीबीईआई को मामले की और भी जांच करनी चाहिए। उल्लेखनीय है कि सीबीआई ने 16 अप्रेल को मामले की जांच बंद करने की रिपोर्ट दाखिल की थी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned