ड्रेनेज निर्माण की धीमी चाल राहगीरों पर भारी

ड्रेनेज निर्माण की धीमी चाल राहगीरों पर भारी

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Jan, 14 2019 10:49:18 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन विगत दो वर्ष से महानगर में ड्रेनेज निर्माण कर रहा है ताकि जलजमाव से महानगर को बचाया जा सके। बिडम्बना यह है कि चेन्नई...

चेन्नई।ग्रेटर चेन्नई कॉर्पोरेशन विगत दो वर्ष से महानगर में ड्रेनेज निर्माण कर रहा है ताकि जलजमाव से महानगर को बचाया जा सके। बिडम्बना यह है कि चेन्नई में लंबे समय से जारी ड्रेनेज का काम पूरा होने का नाम नहीं ले रहा है, जिसका खामियाजा उन यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है जो बस स्टॉप्स पर खड़े होकर बसों का इंतजार करते हैं। बहरहाल महानगर के कई प्रमुख मार्गों के बस शेल्टर ड्रेनेज निर्माण कार्य के कारण यात्रियों के लिए अनुपयोगी बने हुए हैं क्योंकि कॉर्पोरेशन द्वारा महीनों से खोदी गई नाली भरी ही नहीं गई है। इसके कारण यात्रियों को बस पर चढऩे उतरने में भारी सावधानी बरतनी पड़ती है।
महानगर के व्यस्त मार्गों में शुमार पूंदमल्ली हाई रोड पर दास प्रकाश बस स्टॉप है, इस बस स्टॉप के दोनों तरफ ड्रेनेज निर्माण के लिए नाली खोद दी गई है। पूरे तीन महीने गुजरने के बावजूद अभी तक न तो ड्रेनेज का काम अभी पूरा हुआ है और न ही इसके लिए खोदी गई जमीन भरी गई है।

यही कारण कि ब्रॉडवे और मिंट साइड से आने वाली सभी एमटीसी बसों को खड़ी करने के लिए माकूल जगह नहीं मिल पाती, लिहाजा बस चालक बसें बीच में ही खड़ी कर देते हैं ऐसे में जब यात्री बस से उतरते हैं तो वे जान जोखिम में डालने से कम नहीं होता।

यही हाल कमोबेश टीनगर में त्यागराया रोड पर पांडि बाजार बस स्टॉप के पास है। इस मार्ग पर भी विगत छह महीने से ड्रेनेज निर्माण और स्मार्ट सिटी योजना के तहत फुटपाथ के सौदर्यीकरण का काम चल रहा है। इस कार्य के चलते इस सडक़ पर स्थित तीन बस स्टॉप्स अनुपयोगी बने हुए हैं। यात्रियों के लिए न तो यहां खड़े होने की जगह है न ही बैठने की। उनको बीच सडक़ खड़े होकर बसों का इंतजार करना पड़ता है। यात्रियों का कहना है कि इस मार्ग पर ड्रेनेज का निर्माण विगत छह महीने से भी अधिक समय से चल रहा है, लेकिन मानसून जाने के बाद भी निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ है। इसके कारण फुटपाथ भी गायब हो गया है जबकि यात्रियों को बस शेल्टर के सामने सडक़ पर खड़े होकर बसों का इंतजार करना पड़ता है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned