हर साल बलि ले रही नीट परीक्षा बंद की जाए: स्टालिन

हर साल बलि ले रही नीट परीक्षा बंद की जाए: स्टालिन

Ritesh Ranjan | Publish: May, 06 2018 09:22:13 PM (IST) Chennai, Tamil Nadu, India

डीएमके कार्यवाहक अध्यक्ष एम. के. स्टालिन का आरोप है कि नीट परीक्षा हर साल एक बलि ले रही है। यह परीक्षा बंद की जानी चाहिए।

चेन्नई. डीएमके कार्यवाहक अध्यक्ष एम. के. स्टालिन का आरोप है कि नीट परीक्षा हर साल एक बलि ले रही है। यह परीक्षा बंद की जानी चाहिए।
तिरुवारुर जिले के तिरुतरैपूण्डी निवासी कृष्णस्वामी के केरल में हृदयाघात से निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए एम. के. स्टालिन ने कहा कि तमिलनाडु के विद्यार्थियों को अन्य राज्यों में नीट परीक्षा केंद्र आवंटित किए जाने की वजह से विद्यार्थीगण काफी आहत हुए हैं। इसी दुख की वजह से कृष्णस्वामी जो अपने बेटे को लेकर एर्णाकुलम गए थे की वहां दिल का दौरा पडऩे से मौत हो गई। उनके निधन से काफी क्षुब्ध हैं।
उन्होंने कहा कि नीट की वजह से मेडिकल की पढ़ाई किए बिना ही अनिता की जान हम गंवा चुके हैं। इस साल नीट परीक्षा केंद्र अन्य राज्य में दिए जाने की वजह से व्यथित कृष्णस्वामी की मृत्यु हो गई। नीट की वजह से विद्यार्थी ही नहीं उनके अभिभावक भी परेशान हैं। हर साल एक बलि ले रही यह परीक्षा रोकी जानी चाहिए।
एक अन्य बयान में स्टालिन ने ऑनलाइन इंजीनियरिंग काउंसलिंग प्रक्रिया को ग्रामीण विद्यार्थियों के लिए असुविधाजनक बताया है। उन्होंने कहा अब तक की प्रत्यक्ष काउंसलिंग को इस वर्ष ऑनलाइन प्रक्रिया में बदल दिया गया है। कर्नाटक मूल के कुलपति की ओर से किया गया यह पहला कार्य है जिससे संशय की स्थिति पैदा हो गई है। यह ऑनलाइन प्रक्रिया तमिलनाडु के ग्रामीण और तमिल माध्यम के विद्यार्थियों के लिए दुविधाजनक है। डेढ़ लाख सीटों के लिए ऑनलाइन आवेदन और काउंसलिंग से देहाती विद्यार्थी ऐसी दुविधा में फंस गए हैं जिसे वे बता नहीं पा रहे हैं।
स्टालिन ने कहा कि अगर प्रत्यक्ष काउंसलिंग के बजाय ऑनलाइन माध्यम को अपनाया जाना है तो प्रत्येक जिले में पंचायत स्तर पर अण्णा विवि सेवा केंद्र खोले जाने चाहिए। ताकि इन केंद्रों के माध्यम से गरीब व ग्रामीण तथा तमिल माध्यम के विद्यार्थियों का इंजीनियर बनने का सपना पूरा हो।

 

वेलूर जिले में 9054 ने दी नीट परीक्षा
वेलूर. देश भर में रविवार को चिकित्सा पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए अनिवार्य की गई नीट परीक्षा आयोजित की गई। तमिलनाडु में नीट परीक्षा में विभिन्न परीक्षा केन्द्रों पर 1 लाख 7 हजार अभ्यर्थी शामिल हुए। वेलूर जिले के 14 परीक्षा केन्द्रों पर 9054 अभ्यर्थी शामिल हुए। जिला प्रशासन ने नीट परीक्षा को देखते हुए सभी परीक्षा केन्द्रों पर पर्याप्त पुलिस बल तैनात किया था। नकल की रोकथाम के लिए 14 परीक्षा केन्द्रों पर 800 पर्यवेक्षक व 21 उडऩदस्तों की तैनाती की गई। परीक्षार्थियों को कड़ी जांच के बाद ही अन्दर प्रवेश दिया गया। कान में पहनने वाली बाली, गले की चेन, घड़ी, जूते, मोजे, बेल्ट, पानी की बोतल परीक्षा केन्द्र पर ले जाने की मनाही थी।

नीट दे रहे विद्यार्थियों से मिली सौंदरराजन
वेलूर. तमिलनाडु भाजपा प्रदेशाध्यक्ष तमिलइसै सौंदरराजन ने नीट की परीक्षा दे रहे विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दीं। बेंगलूरु चुनाव प्रचार करने जा रही सौंदरराजन ने वेलूर के एक परीक्षा केन्द्र के बाहर परीक्षार्थियों एवं अभिभावकों से मुलाकात की। उन्हें बताया गया कि नीट के लिए केरल एवं महाराष्ट्र में अधिक परीक्षा केन्द्र रखे गए जबकि तमिलनाडु में अपेक्षाकृत परीक्षा केन्द्रों की संख्या कम थी। इससे छात्रों को दुविधा हुई।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned