Tamilnadu: मुख्यमंत्री पहले कावेरी के अतिरिक्त पानी को बचाना सीखें, फिर इजराइल में अध्ययन यात्रा का बनाएं योजना: स्टालिन

Tamilnadu: मुख्यमंत्री पहले कावेरी के  अतिरिक्त पानी को बचाना सीखें, फिर इजराइल में अध्ययन यात्रा का बनाएं योजना: स्टालिन
Tamilnadu: मुख्यमंत्री पहले कावेरी के अतिरिक्त पानी को बचाना सीखें, फिर इजराइल में अध्ययन यात्रा का बनाएं योजना: स्टालिन

Vishal Kesharwani | Updated: 11 Sep 2019, 07:10:53 PM (IST) Chennai, Chennai, Tamil Nadu, India

Tamilnadu मुख्यमंत्री खुद को एक farmer तो बुलाते हैं लेकिन उनके पास अतिरिक्त पानी को समुद्र में जाने से रोकने की नीति नहीं है।

मुख्यमंत्री पहले कावेरी के
अतिरिक्त पानी को बचाना सीखें, फिर इजराइल में अध्ययन यात्रा का बनाएं योजना: स्टालिन
चेन्नई. डीएमके अध्यक्ष एम.के. स्टालिन ने बुधवार को कहा कि इजराइल में जाकर वहां की सिंचाई प्रणाली पर अध्ययन करने की योजना बनाने से पहले मुख्यमंत्री एडपाडी के. पलनीस्वामी को कावेरी नदी के अतिरिक्त पानी को समुद्र में जाने से रोकने पर विचार करना चाहिए।

विदेश यात्रा से लौटने पर कहा
विदेश यात्रा से लौटने के बाद मंगलवार को मुख्यमंत्री ने कहा था कि सिंचाई तंत्र, जिसमें कम पानी की आवश्यकता होती है, के बारे में सीखने के लिए अगला विदेश दौरा इजराइल के लिए होगा।

मुख्यमंत्री खुद को बताते हैं किसान

यहां जारी एक विज्ञप्ति में स्टालिन ने कहा मुख्यमंत्री खुद को एक किसान तो बुलाते हैं लेकिन उनके पास अतिरिक्त पानी को समुद्र में जाने से रोकने की नीति नहीं है। कावेरी के आस-पास के बहुत सारे नहरों की साफ सफाई नहीं हुई, जिसके परिणाम स्वरूप लगभग २० हजार क्यूसेक पानी समुद्र में चला गया।

राज्य की जनता की चिंंता नहीं
मुख्यमंत्री को इस बात की चिंता नहीं है और पानी बचाने के नाम पर इजराइल जाने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने कहा राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय जे.जयललिता ने ४८० करोड़ की लागत से कोलिडम नदी के चारों ओर ६ टीएमसी की क्षमता वाली बांध निर्माण की योजना की घोषणा की थी। घोषणा के पांच साल बाद भी योजना सिर्फ पेपर में ही रह गई।

कोलिडम के चारों ओर बने बांध
उन्होंने कहा कि कोलिडम के चारों ओर बांध निर्माण कराने में किसी प्रकार की समस्या नहीं है। पीडबल्यूडी में ऐसे इंजीनियर भी हैं जिन्हें नदी के चारों ओर रहने वालों को समस्या में डाले बिना बांध निर्माण का तरीका आता है। राज्य सरकार को पानी बचाने के लिए कावेरी और कोलिडम के चारों ओर बांध निर्माण के लिए सही से नीति बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वे पलनीस्वामी से कोई योजना बनाने से पहले जयललिता द्वारा किए गए घोषणा को पूरा करने का आग्रह करते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned