दस हजार ट्रक संचालक आज से हड़ताल पर

इस वजह से करीब 10000 से अधिक ट्रक संचालित नहीं होंगे

By: Arvind Mohan Sharma

Published: 20 Jul 2018, 01:39 PM IST

ट्रक ऑपरेटर्स का आरोप है कि एक माह बाद भी उनकी समस्याओं पर गौर नहीं किया गया। अब हड़ताल के अलावा कोई चारा नहीं है,ट्रक ऑपरेटर्स का कहना है कि पेट्रोल-डीजल की दिनों दिन आसमान छूती कीमतें, हर सड़क पर कई बार टोल टैक्स देना, तीसरे पक्ष का बीमा प्रीमियम सहित अन्य मांगों पर केन्द्र सरकार ने गौर तक करना मुनासिब नहीं समझा।

कोयम्बत्तूर.ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के आह्वान पर शुक्रवार से शुरु जाम हड़ताल में कोयम्बत्तूर के ट्रक ऑपरेटर्स भी भाग लेंगे। इस वजह से करीब 10000 से अधिक ट्रक संचालित नहीं होंगे।अपनी मांगों को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल के बारे में जून माह में ही प्रशासन को अवगत कराया जा चुका था। ट्रक ऑपरेटर्स का आरोप है कि एक माह बाद भी उनकी समस्याओं पर गौर नहीं किया गया। अब हड़ताल के अलावा कोई चारा नहीं है। ट्रक ऑपरेटर्स का कहना है कि पेट्रोल-डीजल की दिनों दिन आसमान छूती कीमतें, हर सड़क पर कई बार टोल टैक्स देना, तीसरे पक्ष का बीमा प्रीमियम सहित अन्य मांगों पर केन्द्र सरकार ने गौर तक करना मुनासिब नहीं समझा।

 

जिला कलक्टर टीएन हरिहरण, जिला राजस्व अधिकारी, दुराई रविचंद्रन, सहित क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों ने चर्चा की
इधर ट्रकों की हड़ताल पर जाने की खबर से दूध,सब्जी व अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति ठप होने की आशंका है। जिला प्रशासन ने आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए बैठक बुलाई। जिला कलक्टर टीएन हरिहरण, जिला राजस्व अधिकारी, दुराई रविचंद्रन, सहित क्षेत्रीय परिवहन अधिकारियों ने चर्चा की। कलक्टर हरिहरण ने कहा कि कि यदि कोई जबरन किसी को हड़ताल में शामिल होने के लिए मजबूर करे तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। जिले में दूध ,सब्जी की आपूर्ति बाधित नहीं हो इसकी वैकल्पिक व्यवस्था की जाए।मिनी ट्रक, लोडर टैक्सी और अन्य वाहनों का उपयोग किया जा सकता है। कलक्टर ने कहा है कि अगर कोई ट्रक ऑपरेटर हड़ताल में शामिल नहीं होता है और उसके ट्रक को रोका जाता है तो कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Arvind Mohan Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned