मछुआरों ने पुलिकट में प्रस्तावित निजी बंदरगाह के निर्माण का किया विरोध

मछुआरा समुदाय ने पुलिकट क्षेत्र में एक निजी बंदरगाह के निर्माण योजना का सख्ती से विरोध किया है। साथ ही कहा कि निर्माण

By: Vishal Kesharwani

Published: 19 Sep 2021, 05:28 PM IST


चेन्नई. मछुआरा समुदाय ने पुलिकट क्षेत्र में एक निजी बंदरगाह के निर्माण योजना का सख्ती से विरोध किया है। साथ ही कहा कि निर्माण से पुलिकट झील, जो कि खारे पानी का झील है, खत्म हो जाएगी। मछुआरों ने इस संबंध में पहले ही केंद्रीय मत्स्य पालन एवं पशुपालन राज्य मंत्री एल. मुरुगन को एक ज्ञापन सौंपा है। मंत्री ने पुलिकट क्षेत्र के दौरे के दौरान मछुआरा समुदाय के नेताओं से मुलाकात की थी। झील के किनारे स्थित गांवों के प्रतिनिधियों ने निजी बंदरगाह के निर्माण पर आपत्ति जताई थी, क्योंकि इससे झील पर बुरा प्रभाव पड़ेगा।

 

एस. मूर्ति नामक एक मछुआरे ने बताया कि इलाके में प्रस्तावित निजी बंदरगाह के निर्माण का विरोध किया जा रहा हैं और केंद्रीय मंत्री को इस बात की जानकारी भी दी गई है। अगर निर्माण योजना को वापस नहीं लिया गया तो अगली कार्रवाई की घोषणा की जाएगी। इसकी जगह मछली पकडऩे के बंदरगाह के निर्माण के लिए कदम उठाना चाहिए।
मछुआरों ने बताया कि मुरुगन ने उन्हें कहा है कि यदि राज्य सरकार मछली पकडऩे के बंदरगाह के निर्माण का प्रस्ताव रखती है तो केंद्र सरकार अध्ययन कर उचित कदम उठाएगी। मुुरुगन ने मछुआरों को कहा कि केंद्र सरकार उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवास उपलब्ध कराने की ओर भी कदम उठाएगी। इतना ही नहीं बल्कि मछुआरों के लिए किसान कार्ड भी जारी किए जाएंगे।

Vishal Kesharwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned