एटीएम हुए कैशलेस, तो कुछ में आई खराबी

भटक रहे उपभोक्ता

छतरपुर. कोरोना वायरस के बचाव के लिए शहर में कफर््यू जैसे हालात बने हुए है और प्रशासन द्वारा सुबह के समय लोगों को जरूरत का सामना खरीदने के लिए घर से निकलने की अपील की जा रही है। वहीं लोग भी प्रशासन की अपील पर खरे उतर रहे हैं। लेकिन इसबीच शहर में लगे अधिकांश एटीएम के खराब होने और कैशलेश होने से लोगों को खासी किल्लत हो रही है। लोगों की नकदी की आवश्यकता पूरी नहीं होने से वह शहर के एक सू दूसरे और दूसरे से तीसरे एटीएम बूथों में रुपय निकालने के लिए भटकने को मजबूर हैं। देश में तेज से फैल रहे कोराना वायरस से बचाव करने के लिए देश प्रदेश के साथ-साथ जिले में भी २२ मार्च से लोगों को घरों में रहने की सलाह दी जा रही है और आवश्यक काम होने पर ही निकलने की अपील की जा रही है। लेकिन लोगों की आर्थिक जरूरत की पूर्ती करने वाले एटीएम इन दिनों लोगों को धोखा दे रहे हैं। शहर के अधिकांस एटीएम या तो खराब हैं या फिर कैशलेश हो चुके हैं। लोग रोजमर्रा की जरूरतों को पूरो करने के लिए रुपए निकालने के लिए एटीएम बूथों में पहुंच रहे हैं लेकिन उन्हें एटीएम में रुपए नहीं मिलने से दूसरे बूथ के लिए जाते हैं लेकिन अधिकांश बूथों की हाल एक सा होने से परेशान हैं। वहीं बूथों में कोई सुरक्षा गार्ड नहीं होने से भी लोगों को एटीएम की सही जानकारी भी नहीं मिल पा रही है। जिससे लोग खासे परेशान है। शहर के गणेश कॉलोनी निवासी अंकित विश्वकर्मा ने बताया कि वह मंगलवार को सुबह से देरी तिराहा, परिहार मार्केट के पास, छत्रसाल चौराहा, किशोर सागर सहित कई एटीएम बूथों में रुपए निकालने के लिए भटकते रहे। उन्होंने बताया कि कुछ मशीनें काम नहीं कर रहीं हैं तो कुछ में रुपए नहीं है। जिससे परेशानी हो रही है।
शहर में आधा सैकड़ा से भी अधिक एटीएम संचालित हैं। शहर मेें भारतीय स्टेट बैंक सहित अन्य बैंकों के कुल ५३ एटीएम संचालित हैं। जिनमें अधिकांश भारतीय स्टेट बैंक के एटीएम संचालित हैं, जबकि शेष एटीएम अन्य बैंकों से संबंधित हैं। तो मुख्य मार्ग, चौका चौराहों व व्यस्ततम स्थानों में संचालित किए जा रहे हैं।

Sanket Shrivastava Desk/Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned