VIDEO ध्वज यात्रा निकालकर किया पूजन, हनुमान टौरिया पर फहराई पताका

Samved Jain

Publish: Mar, 14 2018 12:36:06 PM (IST)

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India
VIDEO ध्वज यात्रा निकालकर किया पूजन, हनुमान टौरिया पर फहराई पताका

- शहर के प्रमुख स्थानों से निकली गई शोभायात्रा, प्रभातफेरी १८ से शुरू होगी

छतरपुर। शहर के सबसे बड़े वार्षिक श्रीरामनवमी महोत्सव की तैयारियां मंगलवार को विधिवत शुरू हो गई हैं। परंपरा अनुसार श्रीराम सेवा समिति ने शहर में सुबह से धर्म ध्वज सिर पर रखकर प्रभातफेरी निकाली। बाद में पूजन करके हनुमान टौरिया पर समर्पित कर पताका फहराई। इस मौके पर बड़ी संख्या में रामभक्त शोभायात्रा में शामिल हुए।

 

 

प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार श्रीराम सेवा समिति की शोभायात्रा सुबह 8 बजे गांधी चौक बाजार से डीजे और बैंड-बाजों के साथ शुरू हुई। यहां से यात्रा हटवारा मोहल्ला, बस स्टैंड, जवाहर रोड, सर्किट हाउस तिराहा होते हुए हनुमान टौरिया पहुंची। यहां पर वैदिक मंत्रोच्चार के साथ ध्वज का पूजन किया गया। बाद में श्रीराम सेवा समिति के सदस्यों ने शहर की सबसे अधिक ऊंचाई पर धर्म ध्वज फहराया। बाद में सभी ने सामूहिक रूप से आरती कर हनुमान जी को श्रीरामनवमी शोभायात्रा की तैयारियों के लिए कमान सौंपी।

 

 

शहर में प्रभातफेरी कल से :


श्रीराम सेवा समिति के सदस्य डालडे मातेले, संजू त्रिपाठी, गिरजा पाटकार ने बताया कि इस बार २५ मार्च को श्रीरामनवमी महोत्सव की शोभायात्रा निकाली जानी है। इसकी तैयारियों के लिए १५ मार्च गुरुवार से प्रतिदिन सुबह ७ बजे से शहर में प्रभातफेरी निकाली जाएगी। चौक बाजार से हर दिन प्रभातफेरी शुरू होगाी। वहीं १८ मार्च को श्रीराम सेवा समिति के कार्यालय का शुभारंभ रामचरित मानस मैदान के तुलसी भवन में शाम 7 बजे से होगा।

 

 

विशाल संकीर्तन यात्रा के साथ पांच दिवसीय साधना शिविर का समापन
- शहर के प्रमुख स्थानों से निकली यात्रा
छतरपुर। शहर के पन्ना रोड स्थित एक होटल में चल रहे जगदगुरु कृपालुजी महाराज के अनुयाईयों के अनोखे साधना शिविर का मंगलवार को समापन हो गया। इस मौके पर शहर में सुबह से प्रभातफेरी के साथ संकीर्तन यात्रा निकाली गई। इसमें बड़ी संख्या में साधक पीतांबर वस्त्र पहनकर शामिल हुए। यात्रा की अगुवाई कृपालुजी महाराज की प्रचारिका धामेश्वरी देवी ने की।
संकीर्तन यात्रा मंगलवार को सुबह 7 बजे गल्ला मंडी स्थित रामचरित मानस मैदान से शुरू हुई। इस यात्रा में बग्घी पर जगदगुरु कृपालु जी महाराज का कटआउट स्थापित था। सबसे आगे भजन-कीर्तन करते हुए धामेश्वरी देवी चल रही थीं। इसके बाद कतारबद्ध होकर सभी साधक संकीर्तन की धुन पर झूमते हुए चल रहे थे। शोभायात्रा चौक बाजार, महल रोड होकर छत्रसाल चौक पहुंची जहां पर यात्रा का समापन हुआ।


साधना शिविर में हुई वास्तविक आनंद की खोज :
पांच दिवसीय साधना शिविर में पहुंचे साधकों ने विशेष विधियों से वास्तविक आनंद की खोज और सुख-शांति प्राप्त करने के तरीके खोजे। शिविर की संयोजक धामेश्वरी देवी ने बताया कि गलत रास्तों पर भटकने से वालों को सही मार्ग पर चलने का रास्ता इस साधना शिविर से मिलता है। इसी सही ज्ञान को जन-जन तक पहुंचाने के उद्देश्य से ही हमारे जगदगुरु कृपालुजी महाराज ने याह साधना विधि तैयार की थी। इस युग के संत शिरोमणि के रूप में वे इसीलिए स्थापित हैं क्येांकि उन्होंने लाखों-करोड़ों लोगों के जीवन को बदला है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned