नौकरी का झांसा देकर छात्रा से पिस्टल की नोंक पर किया दुष्कर्म, पुलिस ने दर्ज किया मामला

rafi ahmad Siddqui

Publish: Apr, 17 2018 01:21:13 PM (IST)

Chhatarpur, Madhya Pradesh, India
नौकरी का झांसा देकर छात्रा से पिस्टल की नोंक पर किया दुष्कर्म, पुलिस ने दर्ज किया मामला

ग्वालियर की रहने वाली है छात्रा, संतोषी नाम की महिला उतारना चाहती थी वेश्यावृत्ति में

छतरपुर/ग्वालियर. नौकरी का झांसा देकर एक महिला ने छात्रा को छतरपुर बुलाकर पिस्टल की नोंक पर उसके साथ दुष्कर्म करवाया। वारदात को दो बदमाशों ने अंजाम दिया। इस दौरान पीडि़त छात्रा को दो दिन तक विश्वनाथ कॉलोनी के एक घर में बंधक बनाकर रखा गया। घटना छतरपुर में बीती 11 और 12 अप्रैल की है। 13 अप्रैल को छात्रा को वहां से भागने का मौका मिला और वह भाग निकली। घटना की जानकारी छात्रा ने परिजनों को दी। इसके बाद सोमवार को महिला थाने पहुंची। जहां पर पुलिस ने उसकी शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है।
ग्वालियर की महिला थाना प्रभारी शैलजा गुप्ता ने बताया कि गोल पहाडिय़ा निवासी बीस वर्षीय बीएससी की छात्रा अपनी मां के साथ रहती है। मां घरों में जाकर साफ सफाई का काम करती है। छात्रा अक्सर अपनी मां के साथ लेडिज पार्क में टहलने जाती है। यहां पर उसकी मुलाकात शिवानी नामक युवती से हुई। दो तीन बार बाते होने पर छात्रा ने उससे कही जॉब दिलाने की बात कही। इस पर शिवानी ने छात्रा को छतरपुर की रहने वाली संतोषी तिवारी नामक महिला का नंबर दे दिया। साथ ही बताया कि उनके यहां पर कम्प्यूटर कार्य के लिए जगह है और वो वहां काम कर चुकी है। जॉब का पता चलते ही पीडि़ता ने संतोषी तिवारी के नंबर पर 8 अप्रैल को शिवानी का रिफरेंस देकर कॉल किया। सन्तोषी ने पीडि़त को छतरपुर आने को कहा। जिस पर 11 मार्च को पीडि़त शाम करीब 5 बजे छतरपुर पहुंची और संतोषी को 9893997725 मोबाइल नंबर पर कॉल किया। संतोषी ने उसे लेने किसी रक्कूू नाम के युवक को भेजा जो पीडि़त को संतोषी के घर ले गया।
पिस्टल की नोक पर बनाया शिकार :
घर पहुंचने पर संतोषी ने उससे बातचीत की, उसके बाद उसे खाना खिलाने के बाद उसे ऊपरी मंजिल में बने कमरे में सोने भेज दिया। रात करीब साढ़े 11 बजे जब वह सो रही थी तो एक युवक जिसका नाम मुस्ताक थाए वहां पर पहुंचाए जिसके हाथ में पिस्टल थी। युवक ने कमरे में आते ही उसके साथ गलत हरकत करना शुरू कर दिया। जब उसने विरोध करते हुए शोर मचाया तो संतोषी भी वहां पर पहुंची ओर उसे सहयोग करने को कहा। जब छात्रा ने उसका विरोध किया तो युवक ने उसका गला दबाते हुए कनपटी पर पिस्टल अड़ा दी।
आंसुओं से भी नहीं पसीजा दिल :
छात्रा ने बताया कि वह मुस्ताक और संतोषी के आगे गिड़गिड़ाती रहीए उनके पैरों में गिरकर आंसु बहाती रहीए लेकिन उनका दिल नहीं पसीजा और मुस्ताक ने उसके साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया। इस दौरान दंरिदे ने उसका गला दबाने का प्रयास किया। जिससे उसके नााखून गले पर लगे।
कमरे के बाहर लगाया पहरा :
वारदात के बाद संतोषी ने छात्रा के कमरे के बाहर पहरा लगा दिया। छात्रा अपनी बेबसी पर रोती रही। लेकिन उसकी कोई भी सुनने वाला नहीं था। जबकि उसके आस.पास के कमरों में अन्य युवतियां भी रह रहीं थी। दिन भर न उसने खाना खाया और न ही पानी पिया।
जिससे मदद मांगी उसने भी किया शोषण :
12 अप्रैल की रात उसके कमरे में रक्कू नामक युवक पहुंचा। रक्कूू ही उसे बस स्टैंड से संतोषी के घर पर लेकर आया था। उसके आने पर वह उसके पैरों में गिर कर मदद की गुहार की। उसने उसे मदद का आश्वासन दिया और उसने भी जबरन उसके साथ दुष्कर्म किया।
मौका मिला और निकल भागी :
13 अप्रैल की सुबह जब उसकी आंख खुली तो दरवाजे पर पहरा देेने वाले वहां पर नहीं थे। वह चुपचाप बाहर आई तो एक युवती कमरे के पास ही मोबाइल पर बाते कर रही थी। उसका ध्यान दूसरी तरफ था। इसका फायदा उठा कर वह बाहर आई और लोगों से बस स्टैण्ड का रास्ता पूछते हुए भाग निकली। यहां पर झांसी के लिए बस निकल रही थी और वह उसमें सवार हो गई।
केद्रीय मंत्री उमा भारती ने की मदद :
झांसी स्टैंड पहुंचने पर जब वह रो रही थी तो राहगीरों ने उससे कारण पूंछा। राहगीरों ने पीडि़ता को ढांढस देकर उसे पास ही केंद्रीय मंत्री उमा भारती के कार्यक्रम के बारे में जानकारी देकर उन्हें अपनी व्यथा सुंनाने की बात कही। पीडि़त युवती उमाजी से मिली पर जल्दी निकलते हुए उन्होंने झांसी के राहुल राजपूत नामक युवक से युवती की मदद करने को कहा। पीडि़त युवती घर पहुंची जहां उसने अपनी बीती मां को सुनाई। दोनों ने महिला थाने जाकर अपनी रिपोर्ट की।
युवती को सैक्स रैकेट उतारना चाहती थी संतोषी :
जॉब की लालच में जिस्म का धंधा कराने वाली के फंदे में फंसी युवती ने बताया कि महिला उसे सैक्स रैकट में उतारना चाहती थी। जिस मकान में युवती को कैद किया गया था उस मकान में करीब आधा दर्जन लड़कियां और थी। मामले में खास यह है कि महिला संतोषी तिवारी सालों से सेक्स रैकेट चला रही है। कई बार उस पर कार्रवाई हुई पर वो बच निकली। जहां युवती को कैद कर रखा गया था वो इलाका विश्वनाथ कॉलोनी के नाम से जाना जाता है। यहां वर्ष 2013 में पुलिस ने संतोषी के घर पर कार्यवाई कर बड़ा रैकेट पकड़ा था।

Ad Block is Banned