जिले में अब 11 कोविड सेंटर शुरु, 15 निजी अस्पतालों को अधिग्रहण की तैयारी

मसीही अस्पताल में 10 से बढ़ाकर 60 बिस्तरों पर शुरू हुआ कोविड का इलाज
रेमडेसिवर इंजेक्शन की पात्रता तय करने समिति हुई गठित, कालाबाजारी पर होगा केस

By: Dharmendra Singh

Published: 21 Apr 2021, 06:56 PM IST

छतरपुर। कोरोना महामारी से निर्मित विपदा की इस घड़ी में आम जनमानस की जान बचाने के लिए अब पूरा सिस्टम नए साधन एकत्रित करने में जुट गया है। जिला अस्पताल में 120 कोविड मरीजों के भर्ती होने के कारण कम पड़ रहे जीवन रक्षक इंतजामों को सुधारने की दिशा में कलेक्टर शीलेन्द्र सिंह द्वारा कदम उठाए जा रहे हैं। जिला अस्पताल में अब एक ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण शुरू हुआ है। 40 दिनों में निर्मित होने वाले इस ऑक्सीजन प्लांट से 80 बिस्तरों पर मरीजों को ऑक्सीजन की सप्लाई हो सकेगी।

सीएमएचओ डॉ. विजय पथौरिया ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश पर शहर में मौजूद लगभग 15 निजी अस्पतालों के बिस्तरों को अधिग्रहीत किए जाने के लिए सभी संस्थाओं को पत्र लिख दिए गए हैं। जिन निजी अस्पतालों में जो भी संसाधन, पैरा मेडिकल स्टाफ एवं बेड की मौजूदगी है उनकी सूची लेकर इन्हें कोविड मरीजों के लिए एक निर्धारित अनुपात में जिला प्रशासन के अधीन किया जाएगा। जल्द ही इन निजी अस्पतालों से लगभग 100 बिस्तरों का इंतजाम हो सकेगा।

मसीही अस्पताल में 60 बिस्तरों पर शुरू हुआ कोविड का इलाज
जिले के दूसरे बड़े अस्पताल महोबा रोड स्थित मिशन हॉस्पिटल में कोविड मरीजों के इलाज के लिए कलेक्टर के निर्देश पर बिस्तरों की संख्या बढ़ाई गई है। 120 बिस्तर के इस अस्पताल में अब 60 बिस्तरों पर कोविड के मरीजों का उपचार होगा। अब तक यहां एक आईसीयू बेड सहित 10 अन्य बिस्तरों पर कोविड के मरीजों का उपचार किया जा रहा था।

जिला मुख्यालय पर चार कोविड सेंटर बनाए
जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड समेत अब जिले में 1१ कोविड केयर सेंटर शुरु किए गए हैं। जिला मुख्यालय पर चार सेंटर शुरु किए गए हैं। जिला अस्पताल के सेंटर का प्रभारी सिविल सर्जन लखनलाल तिवारी को बनाया गया है। वहीं, ढढ़ारी, जूनियर-सीनियर हॉस्टल महोबा रोड, शासकीय बालक छात्रावास गौरया रोड में भी कोविड केयर सेंटर शुरु कर प्रभारी अधिकारी व डॉक्टरों की नियुक्ति की गई है। इसके अलावा खजुराहो में जैन धर्मशाला, ईसीसी ट्रेनिंग सेंटर नौगांव, बालक छात्रा बिजावर, बालक छात्रावास बक्स्वाहा, बालक छात्रावास बड़ामलहरा, कस्तूरबा गांधी बालक छात्रावास गौरिहार और शासकीय बालिका छात्रावास लवकुशनगर को कोविड केयर सेंटर बनाया गया है।


समिति बनाई
कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट छतरपुर शीलेन्द्र सिंह द्वारा जिले में कोविड-19 के (प्रायवेट अस्पताल) के उपचाररत रोगियों को रेमडेसिवर इंजेक्शन की प्राथमिकता तय करने के लिए चार सदस्यीय समिति गठित की है। सीईओ जिला पंचायत एबी सिंह 8989141300, सीएमएचओ डॉ. विजय पथौरिया 9425878215, सिविल सर्जन डॉ. लखन तिवारी 9425880041 और मेडिकल स्पेशलिस्ट डॉ. एमके गुप्ता 9425363988 सदस्य बनाए गए हैं।

राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत होगी कार्यवाही

पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा का कहना है कि कोरोना महामारी के संक्रमण को रोकने हेतु पुलिस एवं प्रशासन अपने कर्तव्यों का पालन कर रहा है । कोरोना के इलाज में रेमडेसिवर इंजेक्शन एवं ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। इन अति आवश्यक सामानों की कालाबाजारी करते पकड़े पाए जाने पर संबंधित के विरूध्द राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

COVID-19
Dharmendra Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned