केवल शांतिपूर्ण रैली व प्रचार-प्रसार की मिली अनुमति, नहीं बजा सकेंगे डीजे

केवल शांतिपूर्ण रैली व प्रचार-प्रसार की मिली अनुमति, नहीं बजा सकेंगे डीजे

rafi ahmad Siddqui | Publish: Sep, 06 2018 12:15:49 PM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

13 शर्तो के साथ मिली अनुमति, रैली का स्थान व समय भी तय

छतरपुर. एट्रोसिटी एक्ट में केन्द्र्र सरकार के संशोधन व आरक्षण के विरोध में 6 सितंबर के भारत बंद के अलर्ट के बीच आज होने वाले गैर दलित समाज के प्रदर्शन को जिला प्रशासन ने अनुमति दे दी है। धारा 144 के लागू होने के साथ ही केवल शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अनुमति अनुविभागीय दंडाधिकारी द्वारा दी गई है। इसके साथ ही रैली के लिए 13 शर्ते लगाई गई हैं। अनुमति लेने वाला संगठन केवल निर्धारित समय व स्थान पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर सकेंगे। अनुमति लेने वाले संगठनों के अलावा कोई भी प्रदर्शन नहीं कर सकेगा। शर्तो का उल्लंघन करने पर वैधानिक कार्रवाई भी की जाएगी। कार्यक्रम के दौरान लॉ-इन-ऑर्डर व्यवस्था बनाए रखने के लिए स्पेशल पुलिस बल भी लगाया गया है। इसके साथ ही पूरे कार्यक्रम की प्रशासन व समाज की ओर से वीडियो रेकॉर्डिंग भी की जाएगी।

इन रुटों निकलेगी रैली
जिला प्रशासन ने गैर दलित समाज को सुबह 11 बजे मेला ग्राउंड से रैली निकालने की अनुमति दी है। ये रैली मेला ग्राउंड से शुरु होकर डाकखाना चौराहा,चौबे तिराहा,बस स्टैंड,चौक बाजार,महल रोड होते हुए छत्रसाल चौराहा और फिर कलेक्टर कार्यालय तक निकालने की अनुमति दी गई है। लेकिन बुधवार की दोपहर में समाज के साथ प्रशासन की बैठक के बाद रैली के रुट में परिवर्तन किया गया। प्रशासन व समाज की सहमति से रैली का फायनल रुट तय किया गया है,रैली का शुभारंभ 11 बजे मेला ग्राउंड से होगा,फिर रैली डाकखाना चौराहा,महलन,चौक बाजार होते हुए फव्वारा चौक बस स्टैंड तक जाएगी। यदि रैली में भीड़ ज्यादा होती है,तो बस स्टैंड पर ही प्रशासन को ज्ञापन सौंप दिया जाएगा या चौबे तिराहा,छत्रसाल चौक से होते हुए कलेक्टर कार्यलय तक जाएंगे,जहां कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा जाएगा।

प्रदर्शन के लिए ये शर्ते
अनुविभागीय दंडाधिकारी द्वारा अनुमति के साथ 13 शर्ते लगाई गई हैं। रैली का रुट तय कर दिया गया है। कार्यक्रम व रैली के दौरान डीजे पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा। रैली के दौरान उत्तेजना फैलाने वाली नारेबाजी और भाषण पर रोक लगाई गई है। अनुमति के साथ ही वैधानिक कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है। रैली में शामिल लोगों तलवार,फरसा,चाकू,लाठी लेकर नहीं चल सकेगा। इतना ही नहीं ईंट,पत्थर और सोड़ा वाटर की बोलतों के संग्रह पर भी रोक लगाई गई है। रैली के दौरान यातायात व्यवस्था प्रर्दशन करने वाले संगठन के स्वयंसेवकों द्वारा ही संभालने की जिम्मेदारी होगी।अनुमति पत्र के साथ ये भी लेख किया गया है कि किसी भी शर्ते का उल्लंघन होने पर रैली की अनमति निरस्त मानी जाएगी।

रैली की होगी वीडियोग्राफी
6 सिंतबर के प्रदर्शन व रैली की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी। ताकि गड़बड़ी फैलाने वाले तत्वों की पहचान व उन पर कार्रवाई की जा सके। जिला प्रशासन की ओर से पूरे कार्यक्रम की वीडियोग्राफी के लिए 5 कैमरे लगाए जाएंगे। इसके अलावा समाज के लोगों द्वारा भी 5 कैमरों से पूरे कार्यक्रम की वीडियो रेकॉर्डिंग की जाएगी। रैली के दौरौन लोगों को टोलियों में बांटा जाएगा। हर टोली का एक समन्यवयक भी वनाया जाएगा। ताकि भीड़ होने पर अव्यवस्था न हो।

प्रशासन के साथ हुई बैठक
प्रशासन व पुलिस के आला-अधिकारियों ने शांति-व्यवस्था बनाए रखने के मकसद से गैर दलित समाज व अपाक्स के पदाधिकारियों की बुधवार को बैठक ली। पुलिस ने स्पष्ट किया कि जिला प्रशासन से मिली अनुमति के अनुसार ही प्रदर्शन किया जाए। लॉ-इन-ऑर्डर गड़वड़ न हो ,इसके लिए समाज व संगठन के लोगों को समझाइश दी गई कि किस तरह से शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया जा सकता है और क्या नहीं करना है। समाज के लोगों ने भी प्रशासन को आश्वासन दिया,कि प्रदर्शन शांतिपूण किया जाएगा। गैर-समाजिक तत्वों द्वार कोई व्यवधान किया जाता है,तो समाज के लोग उन्हें चिन्हित कर पुलिस को जानकारी देंगे। बैठक में प्रशासन की ओर से कलेक्टर, एसपी,एडीएम,एएसपी,एसडीएम,सीएसपी मौजूद थे। वहीं समाज की ओर से पवन मिश्रा,समीर गोस्वामी,सुशील दुबे,हरि अग्रवाल,पिंटू सिंह,विवेक भटेले,बीपी चंदसौरिया आदि मौजूद थे।

बुधवार की शाम पुलिस का फ्लैग मार्च,रात से ही बल तैनात
बैठक के अलावा पुलिस ने जिला मुख्यालय पुलिस के स्पेशल दस्ते व अतिरिक्त फोर्स की तैनाती बुधवार की शाम से ही कर दी है। थानों में उपलब्ध बल के अलावा क्यूटीआर,आसू गैंस यूनिट व रिजर्व पुलिस बल व पीसीआर को अलर्ट कर बुधवार से ही प्रदर्शन के मददेनजर तैनात कर दिया गया है। पुलिस अधीक्षक,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने सुरक्षा व्यवस्था के लिए बुधवार को पुलिस अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली। बुधवार की शाम पुलिस ने शहर में फ्लैग मार्च भी निकाला। जिले के संवेदनशील थाना इलाके के थानाप्रभारियों को विशेष हिदायत दी गई है। सुरक्षा व्यवस्था पर खुद पुलिस अधीक्षक विनीत खन्ना नजर बनाए हुए हैं।

बंद को इन समाजों ने दिया सर्मथन
गैर दलित समाज के बंद और रैली को कई समाज व संगठनों ने लिखित में सहमति दी है। जैन समाज,निजी स्कूल संचालक,क्षत्रिय महासभा,ब्राम्हण महासभा,अधिवक्ता संघ,सपाक्स,सर्व ब्राम्हण समाज,अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा,सर्व स्वर्णकार समाज,समान्य पिछड़ा वर्ग,सिंधी समाज,अग्रवाल समाज,कायस्थ महासभा,अल्पसंख्यक कल्याण संस्था,पटेल समाज व गहोइ समाज ने बंद और प्रदर्शन को लेकर समर्थन दिया है।

लॉ-इन-ऑर्डर बनाए रखने के लिए समाज के लोगों के साथ बैठक ली गई। सुरक्षा के लिए पुलिस का बल,स्पेशल बल बुधवार से ही तैनात कर दिया गया है।
जयराज कुबेर,एएसपी
गैर- दलित समाज के लोगों को 13 शर्तो के साथ रैली निकालने की अनुमति दी गई है। उनके साथ बैठक कर शांतिपूर्ण रैली करने की समझाइश दी गई है।
कमलेश पुरी,एसडीएम
प्रशासन के साथ बैठक हुई है। हमने शांतिपूर्ण तरीके से विरोध करने का आश्वासन दिया है। जबरन बंद या किसी प्रकार की गतिविधियां नहीं होगी। गैर-समाजिक तत्वों द्वारा किसी प्रकार का व्यवधान पैदा किया जाता है,तो हम उन्हें चिन्हित क र पुलिस को इसकी जानकारी देंगे। पूरे कार्यक्रम की वीडियो रेकॉर्डिंग भी की जाएगी।
पवन मिश्रा,समाजिक कार्यकर्ता

Ad Block is Banned