आज भारत आएगा छतरपुर की बेटी प्रज्ञा का शव, सरकार ने ट्रांसफर किया फंड

आज भारत आएगा छतरपुर की बेटी प्रज्ञा का शव, सरकार ने ट्रांसफर किया फंड
Chhatarpur,

Neeraj Soni | Updated: 12 Oct 2019, 07:00:00 AM (IST) Chhatarpur, Madhya Pradesh, India

- मप्र सरकार ने उठाया खर्च

छतरपुर। थाईलैंड के फुकेट शहर में मोटर बाइक हादसे में मारी गई छतरपुर की बेटी प्रज्ञा पालीवाल का शव शनिवार भारत आ जाएगा। भारत सरकार के हस्ताक्षेप और मप्र सरकार की मदद के बाद आखिरकार पीडि़त परिवार को दो दिन की लंबी जद्दोजहद के बाद बेटी का शव मिल जाएगा। पीडि़त परिवार ने इस मामले में मदद की गुहार लगाई थी। इस पर केंद्र सरकार से लेकर मप्र सरकार ने शव थाईलैंड वापस लाने के लिए पीडि़त परिवार की न सिर्फ आधिकारिक मदद करवाई, बल्कि शव को वापस लाने के लिए जरूरी दो लाख रुपए से अधिक की राािश का खर्च भी मप्र सरकार ने उठाया।
प्रज्ञा का शव लेने के लिए गुरुवार को ही उसके परिजन दिल्ली रवाना हो गए थे। प्रज्ञा का शव थाईलैण्ड से भारत लाने के लिए दो लाख रुपए से अधिक का खर्च आ रहा था। इस पर शुक्रवार की सुबह एक बार फिर प्रज्ञा के परिजन विधायक आलोक चतुर्वेदी के निवास पर पहुंचे और उन्होंने बताया कि शव को भारत लाने में रुपयों की दिक्कत आ रही है। इस पर विधायक ने मप्र के मुख्यमंत्री कायालय में बात कर फंड ट्रांसफर कराने को कहा। साथ ही दिल्ली में मप्र आवास आयुक्त से बात कर जल्द से जल्द से फंड ट्रांसफर कराकर प्रज्ञा का शव भारत लाने के लिए कहा। मप्र शासन एवं भारत सरकार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल फंड ट्रांसफर कर दिया और कार्यालय से कॉल आया कि पैसा ट्रांसफ र हो गया है। प्रज्ञा का शव फ्लाइट से शनिवार को भारत पहुंचेगा। इसके बाद उसे दिल्ली से छतरपुर लाया जाएगा।
गौरतलब है कि शहर की बेटी प्रज्ञा पालीवाल बैंगलुरू में एक कंपनी में जॉब कर रही थी। वह एक मार्केटिंग कंपनी की कांफें्रस में शामिल होने के लिए थाईलैंड गई थी। जहां 9 अक्टूबर की रात करीब 8 बजे प्रज्ञा पालीवाल अपने मित्र नितेश मिश्रा के साथ मोटर बाइक से फुकेट शहर में घूम रही थीं। वापस होटल लौटते समय उनकी मोटर बाइक एक कार से टकरा गई। इस हादसे में प्रज्ञा पालीवाल की मौत हो गई थी, जबकि नितेश मिश्रा घायल हुए थे। हादसे के बाद जब पीडि़त परिवार को बेटी की मौत की खबर लगी तो छतरपुर के सीताराम कॉलोनी में रहने वाले प्रज्ञा के पिता शिवकुमार पालीवाल एवं उनके भाई दीपक पालीवाल ने छतरपुर विधायक के घर पहुंचकर मदद मांगी थी। विधायक ने प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री को ट्वीट करके मदद मांगी थी। इसके साथ ही मुख्यमंत्री कार्यालय में बात कर सरकार को इसकी सूचना दी थी। केंद्र और प्रदेश सरकार हरकत में आई। उधर लोगों ने ट्वीटर पर मुहिम चलाकर प्रज्ञा के शव को वापस लाने के लिए केन्द्र सरकार से भी मदद मांगी थी। जिसके बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर का भी बयान सामने आया था और विदेश मंत्रालय ने भी मदद का भरोसा दिलाया। चूंकि पीडि़त परिवार के किसी सदस्य के पास शव को वापस लाने के लिए राशि एवं पासपोर्ट का इंतजाम नहीं था जिसके चलते यह परिवार परेशान था। आखिरकार प्रज्ञा पालीवाल का शव शनिवार को थाईलैंड से भारत आएगा और उसके बाद उसे शव वाहन से दिल्ली से छतरपुर लाया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned