142 किसानों को मिलेगा जमीन का मुआवजा

142 किसानों को मिलेगा जमीन का मुआवजा

mantosh singh | Publish: Sep, 04 2018 05:06:12 PM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India

अब 142 किसानों को जमीन का मुआवजा मिलेगा जिसकी पूरी तैयारी प्रशासन ने कर रखी है।

पांढुर्ना. नगर की पेयजल समस्या के निराकरण के लिए प्रस्तावित कामठीकलां जलाशय का गजट नोटिफिकेशन जारी हुआ है। 31 अगस्त को चार गांवों के 142 किसानों की अधिग्रहित होने वाली भूमि का राजपत्र में प्रकाशन किया गया है। अब भू-अर्जन अधिकारी किसानों को उनकी भूमि का मुआवजा संबंध में शिविर लगाकर राशि का वितरण करेंगे। यह कार्रवाई शीघ्र हो गई तो चुनाव पूर्व कामठीकलां जलाशय का निर्माण कार्य प्रारंभ होने की उम्मीद है। नगर पालिका से मिली जानकारी के अनुसार 25 अगस्त को कलेक्टर वेदप्रकाश ने धारा 19 पर हस्ताक्षर कर इसे राजपत्र में प्रकाशित करने के लिए शासन को भेज दिया गया था। 31 अगस्त को राजपत्र में उक्त जानकारी प्रकाशित हो गई है। जिसमें अब 142 किसानों को जमीन का मुआवजा मिलेगा जिसकी पूरी तैयारी प्रशासन ने कर रखी है।

कामठीकलां के 105 रकबे की 48 हेक्टेयर डूब क्षेत्र में:

उमरी और कामठीकलां के बीच बनने जा रहे जलाशय में सर्वाधिक भूमि कामठीकलां के किसानों की जाएगी। राजपत्र में प्रकाशित जानकारी के अनुसार कामठीकलां के कुल 105 रकबे में से 47.916 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जाएगा। इसके अलावा मांगुरली के 58 रकबे की 48.641 हेक्टेयर भूमि, मरकावाड़ा के 16 रकबे की 8.110 हेक्टेयर और उमरीखुर्द के 14 रकबों में से 11.117 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण होगा।
16 करोड़ 83 लाख रुपए मुआवजा होगा वितरण:

जलाशय निर्माण में भूमि देने वाले ग्राम कामठीकलां, उमरीखुर्द, मांगुरली और मरकावाड़ा के किसानों को शासन लगभग 16 करोड़ 83 लाख रुपए का मुआवजा वितरण करेगा। इसके लिए मुआवजे के निर्धारण किया जाएगा। किसानों को उनके खातों में राशि डाली जाएगी। इसके पूर्व भू-अर्जन अधिकारी गांवों में शिविर लगाकर किसानों की समस्याओं का निराकरण करेंगे।

प्रोजेक्ट पर एक नजर
यूआईडीएसएसएमटी वॉटर प्रोजेक्ट योजना के अंतर्गत 38 करोड़ 94 लाख 13 हजार कुल लागत है। जलाशय निर्माण के लिए रायपुर की चन्द्र निर्माण प्रा.लि ने 27 प्रतिशत कम दर पर निर्माण का ठेका प्राप्त किया है जिसे 15 करोड़ 21 लाख रुपए में निर्माण करना होगा। 16 करोड़ रुपए मुआवजा वितरण किया जाएगा।

Ad Block is Banned