छिंदवाड़ा पुलिस ने थक हारकर लिया यह फैसला

छिंदवाड़ा पुलिस ने थक हारकर लिया यह फैसला

babanrao pathe | Publish: Apr, 17 2018 11:47:05 AM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India

फोटो सोशल मीडिया पर जारी की गईं हैं। फोटो के साथ एक सूचना भी वायरल की जा रही। पुलिस को उम्मीद है कि इसके जरिए आरोपियों तक पहुंचा जा सकता

छिंदवाड़ा. वारदात को अंजाम देने के बाद फरार आरोपियों की तलाश में हारी पुलिस ने अब सोशल मीडिया का सहारा लिया है। एक वर्ष पुराने प्रकरण के आरोपियों की फोटो सीसीटीवी फुटेज से निकालीं। फोटो सोशल मीडिया पर जारी की गईं हैं। फोटो के साथ एक सूचना भी वायरल की जा रही। पुलिस को उम्मीद है कि इसके जरिए आरोपियों तक पहुंचा जा सकता है।


प्रकरण कोतवाली थाना क्षेत्र के परासिया रोड स्थित षष्टी माता मंदिर के पास का है। एसएएफ आठवीं बटालियन में उपसेनानी के पद पर पदस्थ पर्वत सिंह मसराम षष्टी माता मंदिर के बाजू वाले एटीएम पर रुपए निकालने गए थे। दो बदमाशों ने उनका एटीएम कार्ड बदल लिया। कुछ देर बाद बदमाशों ने उनके बैंक खाते से खरीदी करने के साथ ही रिचार्ज भी किए। मोबाइल पर मैसेज आने पर मसराम को ठगी का पता चला, उन्होंने तत्काल प्रकरण की शिकायत कोतवाली थाने में की। वारदात २२ अगस्त २०१७ को हुई थी। पुलिस ने छानबीन शुरू की, लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा। एटीएम के सीसीटीवी फुटेज से फोटो निकाली गई। दो बदमाशों के चहरे सामने आए, जिन्होंने वारदात को अंजाम दिया। आरोपी अब तक हाथ नहीं लगे तो पुलिस ने सोशल मीडिया का सहारा लिया है।

धोखाधड़ी का शिकार एसएएफ आठवीं बटालियन के उपसेनानी छिंदवाड़ा में पुलिस विभाग में डीएसपी के पद पर पदस्थ रहे हैं। पुलिस अपने ही विभाग के अधिकारी से धोखाधड़ी के आरोपी को नहीं तलाश पाई। आम लोगों के साथ होने वाली धोखाधड़ी की बात तो दूरी की कौड़ी है। अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिले की पुलिस इस तरह के आरोपियों की धरपकड़ में कितनी पीछे हैं। एटीएम कार्ड बदलकर रुपए निकालना, पिन नंबर लेकर खरीदी करना या मोबाइल रिचार्ज करना जैसे कई अपराध घटित हो चुके हैं, लेकिन पुलिस किसी भी प्रकरण में आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। सफलता हाथ नहीं लगने पर सोमवार को पुलिस ने सोशल मीडिया का सहारा लिया।

Ad Block is Banned