Electricity: अचानक बढ़ गई खपत..जाने वजह

पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के रिकार्ड में घरेलू से ज्यादा कृषि क्षेत्र की मांग

 

छिंदवाड़ा/रबी फसल की सिंचाई के पम्पों के दिन-रात चलने से बिजली खपत एक माह में 13 लाख यूनिट बढ़ गई है। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों ने इस समय घरेलू से ज्यादा कृषि क्षेत्र की मांग बताया है। अच्छी बारिश से गेहूं-चना की फसल का रकबा पिछले साल 2019 की अपेक्षा बढ़ा है। बिजली की यह मांग फसल पकने तक बनी रहेगी।
कम्पनी के मुताबिक जनवरी में हुई बारिश से बिजली खपत प्रतिदिन 44.26 लाख यूनिट दर्ज की गई थी। उस समय कृषि पम्प चलना कम हो गए थे। फरवरी के दूसरे पखवाड़े में यह खपत बढ़कर 57.89 लाख यूनिट हो गई है। पूरे जिले में इस समय 5.36 लाख बिजली कनेक्शन है। इनमें से 1.10 लाख स्थायी कृषि कनेक्शन है तो वहीं 18 हजार अस्थायी बिजली कनेक्शन दिए गए हैं। कम्पनी अधिकारियों का कहना है कि इस समय वातावरण में गुलाबी ठंड है। इसके चलते पंखे नहीं शुरू हुए हैं। इससे घरेलू बिजली की मांग कम दर्ज हो रही है। जैसे-जैसे सूरज की गर्मी बढ़ेगी,वैसे-वैसे मांग में इजाफा होगा। संभागीय अभियंता शरद श्रीवास्तव का कहना है कि अच्छी बारिश के चलते पर्याप्त पानी होने से रबी फसल का रकबा बढ़ा है। इससे किसान फसल की सिंचाई के लिए कृषि पम्प का उपयोग कर रहे हैं। इससे पिछले माह की तुलना में 13 लाख यूनिट बिजली खपत में वृद्धि हुई है।

Patrika
manohar soni Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned