लड्डू गोपाल का मना छठी उत्सव

लड्डू गोपाल का मना छठी उत्सव

Sandeep Chawrey | Publish: Sep, 09 2018 05:46:18 PM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India

राजनगर और छोटी बाजार में हुआ कार्यक्रम

छिंदवाड़ा. कृष्ण जन्माष्टमी के बाद एक सप्ताह तक शहर में विभिन्न आयोजन होते हैं। यदुवंशी समाज के लोग अपने घरों में विशेष झांकी सजाते हैं तो मंदिरों में पूजा अर्चना का आयोजन कियाजाता है। छोटी बाजार स्थित श्रीराम मंदिर में सजे संवरे बालक स्वरूप के लडडू गोपाल यानी भगवान कृष्ण को शनिवार को महिलाओं ने खूब झूला झुलाया और उनकी बलईयां लीं। मंगलगान के साथ खुशी के माहौल में महिलाएं नृत्य करतीं और ढोलक मजीरों के साथ भजन गातीं रहीं। दरअसल. वे भगवान का छठी उत्सव मना रही थी। जन्माष्टमी के छह दिन बाद यह उत्सव हर वर्ष मनाया जाता है। राम मंदिर महिला मंडल ने इस साल भी यह आयोजन उत्सव के रूप में मनाया। दोपहर तीन बजे से पूजा-अर्चना कर भजन-कीर्तन शुरू किया। शाम पांच बजे लड्डू गोपाल की सुंदर झांकी सजाकर बैंड बाजों के साथ राम मंदिर से झांकी बड़ी माता मंदिर ले जाई गई। यहां भी महिलाओं ने भजन-कीर्तन किए। बाद में झांकी को वापस श्रीराम मंदिर लाया गया। यहां भगवान के बाल रूप की आरती की गई और उन्हें सोंठ के लड्डू, चॉकलेट, मिठाई आदि का भोग लगाया गया। महिला मंडल की अध्यक्ष सुनीता चौरसिया ने बताया कि नगर के विभिन्न महिला मंडलों ने इस आयोजन में अपनी भागीदारी दी।
उत्सव का हुआ समापन
जन्माष्टमी के मौके पर शहर में यदुवंशी समाज के लोग अपने घरों में विशेष झांकी भी सजाते हैं। शहर के राजनगर में पप्पू यादव के यहां भी विशेष झांकी सजाई गई। हर वर्ष वे यह आयोजन करते हैं। सात दिन तक विशेष पूजा अर्चना के साथ धार्मिक आयेाजन होते है। इस बार भी पूजा अर्चना के साथ भजन ओर देवी जागरण के आयोजन यहां रखे गए। शनिवार को उनके निवास स्थान से शोभायात्रा निकाली गई विभिन्न क्षेत्रों से होकर निकली। इस दोरान बड़ी संख्या में सामाजिक बंधु और कृष्ण भक्त इसमें शामिल हुए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned